कपोतासन करने का तरीका और फायदे Kapotasana (Pigeon Pose) steps and benefits in Hindi

By | May 10, 2020

कपोतासन क्या है? Kapotasana kya hai?

कपोतासन दो शब्दों से मिलकर बना है कपोत एवं आसन । कपोत संस्कृत में कबूतर को कहा जाता है । इस प्रकार कपोटासन का अर्थ हुआ वह आसन जिसमें योगी अपना शरीर कबूतर जैसा बना लेता है । इस आसन को अंग्रेजी में पिजन पोज भी कहा जाता है जिसका मतलब होता है कबूतर जैसा आसन ।

यह आसन करने में थोड़ा कठिन होता है तथा वह व्यक्ति जो अभी योग को शुरू ही कर रहा हो उसे इस आसन को नहीं करना चाहिए, क्योंकि इस आसन को करने में बहुत ज्यादा सावधानी एवं अनुभव की आवश्यकता होती है । यदि आप थोड़ी सी भी गलती करते हैं तो आप को चोट लग सकती है । इसलिए इस आसन को किसी एक्सपर्ट की देखरेख में ही करना चाहिए ।

कपोतासन करने का तरीका Kapotasana karne ka tarika

  • कपोतासन करने के लिए सबसे पहले आप वज्रासन की अवस्था में बैठ जाएं । इसके पश्चात आप अपने घुटनों के बल शरीर को उठाएं ।
  • शरीर को ऊपर उठाते समय आपको इस बात का ध्यान रखना है कि आपको पैरों के बल खड़े नहीं होना है सिर्फ घुटनों के बल ही ऊपर उठना है ।
  • इसके बाद हाथों को दोनों पैरों के पंजों के पास ले जाकर रखें । अब अपना वजन हथेलियों पर डालते हुए अपने शरीर को पीछे की ओर मोड़ना शुरू करें ।
  • अपने कंधे एवं सिर को पीछे की ओर ले जाएं । धीरे धीरे अपने सिर को अपने दोनों पैरों के पास तक ले जाकर जमीन पर टिका दें ।
  • अपने दोनों हाथों से दोनों पैरों की एड़ियों को पकड़ ले । अब आपके शरीर का भार आपकी कहानियों एवं बाजू पर आ जाएगा ।
  • इस अवस्था में अपनी शारीरिक क्षमता के अनुसार कुछ सेकेंड्स तक बने रहे । ज्यादा से ज्यादा 2 मिनट तक आप इस अवस्था में रह सकते हैं ।
  • इस आसन के दौरान सामान्य और गहरी सांसें लेती रहें । इसके पश्चात धीरे धीरे अपना सिर एवं कंधे ऊपर उठाएं एवं शरीर को सामान्य अवस्था में ले आए । इस प्रकार कपोतासन संपूर्ण होता है ।

कपोतासन करते समय सावधानियां Kapotasana karte samay savdhaniya

यह आसन करने में थोड़ा कठिन होता है, इसलिए इस आसन को किसी प्रशिक्षित योगा ट्रेनर की हेल्प से ही करना चाहिए । यदि आप योगा को शुरू ही कर रहे हैं एवं आपके शरीर में लचीलापन भी बहुत कम है तो आप शुरुआत में इस आसन को ना करें ।

इस आसन को करने से पहले अपने शरीर को फुर्तीला एवं लचीला बना ले, ताकि जब आप यह आसन करें तो आपको कोई असुविधा ना हो । जिन लोगों के कंधों, कमर या घुटनों में दर्द की समस्या हो उन्हें यह आसन नहीं करना चाहिए ।

जिन लोगों ने कुछ समय पहले ही घुटनों या कमर की कोई सर्जरी कराई हो उन्हें भी इस आसन को नहीं करना चाहिए । यह आसन गर्भवती महिलाओं को नहीं करना चाहिए । हृदय के रोगियों को भी यह आसन नहीं करना चाहिए ।

कपोतासन करने से पहले किए जाने वाले आसन Kapotasana se pahle kiye jane wale asan

कपोतासन करने से पहले आप यह आसन कर सकते है –

  • बद्ध कोणासन (Bound Angle Pose)
  • सेतुबंधासन (Bridge Pose)
  • गोमुखासन (Cow Face Pose)
  • वीरासन (Hero Pose)
  • वृक्षासन (Tree Pose)
  • भुजंगासन (Cobra Pose)
  • उत्थित पार्श्वकोणासन
  • उत्थित त्रिकोणासन (Extended Triangle Pose)

कपोतासन करने के फायदे Kapotasana karne ke fayde

यह आसन करने से पेट के अंगों की मसाज होती है एवं पाचन तंत्र की अनेक बीमारियां जैसे पेट गैस, कब्ज एवं एसिडिटी में लाभ मिलता है । इस आसन को करने से पीठ की समस्या खासकर साइटिका में बहुत ज्यादा लाभ मिलता है ।

जो लोग साइटिका से बहुत ज्यादा परेशान हो एवं इलाज करा करा कर थक गए हो उन्हें किसी योग्य प्रशिक्षक की देखरेख में इस आसन को करना चाहिए । इस आसन को करने से कूल्हों के क्षेत्र में लचीलापन आता है ।

इस आसन को करने से जांघों की मांसपेशियां बलवान एवं हष्ट पुष्ट होती हैं । इतना ही नहीं इस आसन को करने से प्रजनन तंत्र पर भी बहुत अच्छा एवं सकारात्मक प्रभाव पड़ता है । कपूत आसन करने से ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता है ।

यह लेख आपको कैसा लगा अपने विचार हमें कमेन्ट के माध्यम से जरुर बताये ।
 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *