शीघ्रपतन कारण, उपचार एवं नुक्सान Premature Ejection Problem Solution in Hindi

By | March 10, 2020

शीघ्रपतन क्या है ? What is Premature Ejaculation in Hindi

शीघ्रपतन पुरुषों में होने वाली एक ऐसी समस्या है जो पुरुषों के विवाहित जीवन पर बहुत ज्यादा प्रभाव डालती है । इस समस्या में पुरुष के द्वारा सेक्स करते समय अपने पार्टनर की दुनिया तुलना में जल्दी वीर्यपात हो जाता है ।

ऐसी स्थिति में महिला पार्टनर असंतुष्ट अवस्था में ही रह जाती है । शीघ्र स्खलन का समय अलग-अलग पुरुषों में अलग-अलग होता है । यह निर्भर करता है कि कपल्स का सेक्स टाइम कितनी देर का है । कुछ कपल्स 3 से 4 मिनट में ही संतुष्ट हो जाते हैं, जबकि कुछ कपल्स 15 से 20 मिनट तक संभोग करने पर ही संतुष्ट होते हैं ।

ऐसे में शीघ्र स्खलन का समय निर्धारित करना बहुत मुश्किल है । लेकिन इतना निश्चित है कि शीघ्र स्खलन में पुरुष महिला की तुलना में पहले डिस्चार्ज होता है । शीघ्रपतन कोई बहुत बड़ी समस्या नहीं है तथा इसके लिए पुरुषों को चिंता भी नहीं करनी चाहिए क्योंकि सही उपचार करने के पश्चात शीघ्रपतन की समस्या में लाभ मिल जाता है । 

और पढ़े:  बैद्यनाथ सितोपलादि चूर्ण के फायदे

शीघ्रपतन का कारण Causes of Premature Ejaculation in Hindi

शीघ्रपतन का कारण मनोवैज्ञानिक भी हो सकता है एवं शारीरिक भी । यदि मनोवैज्ञानिक कारणों की बात करें तो इस स्थिति में पुरुष अपने महिला पार्टनर के साथ सेक्स करने के बारे में बहुत ज्यादा सोचते हैं ।

वे सोचते हैं कि क्या वे अपने पार्टनर को सेक्स में संतुष्ट कर पाएंगे zया नहीं । ऐसा बहुत ज्यादा सोचने पर पुरुष शीघ्रपतन का शिकार हो जाते हैं । क्योंकि ऐसे पुरुषों का मस्तिष्क बार-बार लिंग संस्थान को वीर्य स्राव रोकने के सिगनल्स भेजता है जिसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है तथा ना चाहते हुए भी पुरुषों का स्खलन हो जाता है ।

और पढ़े: Swarna Bhasma Benefits in Hindi

शीघ्र पतन का अन्य कारण हस्तमैथुन Premature Ejaculation due to Hand Practice in Hindi

यदि हम शीघ्रपतन के अन्य कारणों की बात करें तो उनमें पुरुषों के द्वारा युवा अवस्था में या बचपन में बहुत ज्यादा हस्तमैथुन करना, गुदामैथुन करना या अप्राकृतिक मैथुन करना भी माना जाता है ।

क्योंकि बहुत ज्यादा हस्तमैथुन, गुदामैथुन या अप्राकृतिक मैथुन करने से लिंग संस्थान की नाडिया बहुत ज्यादा कमजोर हो जाती हैं तथा उनमें वीर्य को रोकने की शक्ति भी नहीं रहती है ।

वीर्य बहुत पतला हो जाता है तथा संभोग के दौरान क्लाइमेक्स आने से पहले ही पुरुषों को स्खलन हो जाता है । उपरोक्त दोनों ही स्थितियों का इलाज संभव है । यदि व्यक्ति संयम के साथ अपना उपचार करें तो 2 से 3 महीने में ही वह बिल्कुल ठीक हो जाता है ।

और पढ़े:
Dabur Shilajit Gold Capsule Course in Hindi

शीघ्रपतन के प्रभाव Premature Ejaculation Side Effects in Hindi

यदि पुरुषों को शीघ्रपतन की समस्या लंबे समय तक बनी रहे तो इससे पुरुषों के जीवन पर निम्न प्रभाव पड़ता है ।

शादीशुदा जीवन यानी मैरिड लाइफ पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है । बार-बार अपने पार्टनर को असंतुष्ट छोड़ने पर महिला पार्टनर को मानसिक रोग हो सकता है । पुरुष भी अपने आपको बहुत ज्यादा तनावग्रस्त महसूस करता है ।

आत्महत्या करने की भावना मन में आती है । शादी के टूटने यानी तलाक तक की नौबत आ जाती है । रात को सही प्रकार से नींद नहीं आती है । मानसिक तनाव बना रहता है । महिला पार्टनर के स्वास्थ्य पर भी इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है ।

और पढ़ें: पतंजलि कांचनार गुग्गुल के फायदे

शीघ्रपतन का इलाज शीघ्रपतन Premature Ejaculation Treatment in Hindi

शीघ्रपतन का इलाज करने से पूर्व यह जानना आवश्यक है कि शीघ्रपतन का कारण क्या है । यदि शीघ्रपतन केवल मनोवैज्ञानिक कारणों से है तो इसका इलाज अलग तरीके से किया जाएगा जबकि यदि शीघ्र पतन बचपन की गलत आदतों के कारण है तो इसका इलाज अलग तरीके से किया जाता है ।  तो आइये जानते हैं शीघ्रपतन रोकने के उपाय

और पढ़ें: वासमोल ब्लैक हेयर आयल side effects

शीघ्रपतन के मनोवैज्ञानिक इलाज 

देखिए यदि पुरुष सेक्स के बारे में बहुत ज्यादा सोचते हैं कि वे अपने महिला पार्टनर को संतुष्ट कर पाएंगे या नहीं तो इसके लिए उन्हें सुबह जल्दी उठना चाहिए और योगाभ्यास करना चाहिए ।

इसके लिए प्राणायाम, कपालभाती तथा अनुलोम विलोम सर्वश्रेष्ठ माने जाते हैं । लेकिन यदि शीघ्रपतन की समस्या बचपन की गलतियों या बहुत ज्यादा संभोग करने के कारण या कमजोरी के कारण है तो इसका इलाज निम्न प्रकार से किया जा सकता है ।

पेल्विक फ्लोर मसल्स का व्यायाम

शीघ्रपतन की समस्या को दूर करने के लिए पेल्विक फ्लोर मसल्स की एक्सरसाइ बहुत ज्यादा जरूरी होती है । क्योंकि पेल्विक फ्लोर मसल्स ही वे मसल्स होती हैं जो संभोग के दौरान वीर्य को रोकने में मदद करती हैं ।

सबसे पहले तो यह जानना जरूरी है पेल्विक फ्लोर मसल्स कौन सी होती है । जब आप पेशाब करते हैं तो पेशाब करते समय पेशाब को रोकने के लिए जिन मांसपेशियों को खींचना पड़ता है उन्हें ही पेल्विक फ्लोर मसल्स कहते हैं ।

इस एक्सरसाइज को करने के लिए आप एक तखत पर या फर्श पर चटाई बिछाकर सिद्धासन या पद्मासन में बैठ जाएं अर्थात चौकड़ी मारकर बैठ जाएं । अब आप जो मांसपेशियां हमने आपको ऊपर बताइए उन्हें आप 10 से 15 सेकंड के लिए ऊपर की ओर खींच कर रखें और धीरे-धीरे छोड़ दे ।

यह प्रक्रिया आप शुरुआत में 15 से 20 बार करें तथा बाद में इस प्रक्रिया को 90 से 100 बार तक भी आप कर सकते हैं । इस प्रक्रिया को आप दिन में किसी भी समय किसी भी स्थान पर कर सकते हैं । लेकिन ध्यान रखें खाना खाने से आधा घंटा पहले व आधे घंटे बाद ही इस क्रिया को करें ।

इससे पेल्विक फ्लोर मसल्स बहुत ज्यादा मजबूत हो जाएंगी तथा शीघ्रपतन की समस्या में बहुत जल्दी लाभ मिलेगा ।

और पढ़ें: Ashwini Mudra

आयुर्वेदिक तिले का प्रयोग

बचपन में बहुत ज्यादा हस्तमैथुन या अप्राकृतिक मैथुन करने से लिंग की नसे कमजोर हो जाती हैं । लिंग टेढ़ा हो जाता है तथा लिंग पर नीली नीली नसें उभर आती है । इस स्थिति में किसी अच्छी कंपनी का तिला प्रयोग करना फायदेमंद होता है ।

यहां हम आपको एक तिला सजेस्ट कर रहे हैं । आप हमदर्द कंपनी का डायनामोल तिला प्रयोग कर सकते हैं । यह तीला देसी जड़ी बूटियों से मिलकर तैयार किया जाता है तथा हस्तमैथुन एवं अप्राकृतिक तथा बहुत ज्यादा संभोग करने से आने वाली कमजोरी को दूर कर देता है ।

इस तेल के सेवन करने से लिंग का टेढ़ापन दूर हो जाता है तथा लिंग लंबा और सख्त हो जाता है तथा पुरुषों को संभोग में अतिरिक्त समय मिलता है ।

संभोग से पहले कंडोम का इस्तेमाल करें

शीघ्रपतन की शुरुआती अवस्था में आप संभोग करने से पहले कंडोम का इस्तेमाल भी कर सकते हैं । क्योंकि कंडोम का इस्तेमाल करने से पुरुषों में उत्तेजना बहुत कम महसूस की जाती है । जिससे संभोग का समय पहले की अपेक्षा बढ़ जाता है ।

लेकिन यहां हम आपको यह सुझाव देंगे कि यह शीघ्रपतन का कोई परमानेंट सॉल्यूशन नहीं है । क्योंकि कंडोम का इस्तेमाल करने से केवल स्पर्श उत्तेजना को थोड़ा कम किया जा सकता है और ऐसा करने से स्त्री एवं पुरुष दोनों को प्राकृतिक आनंद पहले की तुलना में कम प्राप्त होगा ।

शीघ्रपतन दूर करने के लिए आयुर्वेदिक उपचार Ayurvedic Treatment of Premature Ejaculation in Hindi

शीघ्रपतन को दूर करने के लिए आयुर्वेद में सैकड़ों दवाइयां हैं जिनका प्रयोग करके शीघ्रपतन की समस्या को बिल्कुल दूर किया जा सकता है । हम यहां शीघ्रपतन के लिए कुछ पेटेंट दवाइयों के बारे में आपको बता रहे हैं ।

शीघ्रपतन नाशक हिमालय कॉन्फीडो टेबलेट

शीघ्रपतन की समस्या को दूर करने के लिए आप हिमालय कंपनी की हिमालय कॉन्फीडो टेबलेट का इस्तेमाल कर सकते हैं । यह टेबलेट मुख्य रूप से शीघ्रपतन की समस्या को दूर करने के लिए ही बनाई गई है ।

इसटेबलेट का 3 से 4 महीने तक नियमित सेवन करने से शीघ्रपतन की समस्या में बहुत ज्यादा लाभ मिलता है । इस टैबलेट को नीचे दिए गए लिंक से मंगा सकते हैं ।

चरक न्यू टेबलेट

हिमालय कॉन्फीडो की तरह चरक कंपनी के द्वारा निर्मित नियो टेबलेट भी शीघ्रपतन दूर करने की एक सुप्रसिद्ध आयुर्वेदिक औषधि है । इस औषधि को भी आप हिमालय कॉन्फीडो टेबलेट के साथ 3 से 4 महीने इस्तेमाल कर सकते हैं आप को बहुत अधिक लाभ मिलेगा । इस टेबलेट को भी आप नीचे दिए गए लिंक से प्राप्त कर सकते हैं ।

शीघ्रपतन में लाभकारी वीर्य पोस्टिक चूर्ण

शीघ्रपतन का एक अन्य कारण वीर्य का पतलापन भी होता है । यदि आप का वीर्य पतला पड़ गया हो तो आप किसी अच्छी कंपनी का वीर्य पोस्टिक चूर्ण बाजार से लाकर प्रयोग कर सकते हैं । यहां हम आपको अनमोल कंपनी का वीर्य पोस्टिक चूर्ण सजेस्ट करेंगे ।

इसके अलावा यदि आपको यह चूर्ण ना मिले तो आप अलवर कंपनी का वीर्य पोस्टिक चूर्ण भी खरीद सकते हैं । इस चूर्ण को आप नीचे दिए गए लिंक से बना सकते हैं ।

घर पर ही बनाएं धातु पोस्टिक चूर्ण

यदि आप बाजार का बना बनाया धातु पोस्टिक चूर्ण नहीं मंगाना चाहते तो आप घर पर ही धातुपौष्टिक चूर्ण को बना सकते हैं । इसके लिए आप 100 ग्राम मूसली चूर्ण, 100 ग्राम शतावर चूर्ण तथा 100 ग्राम अश्वगंधा चूर्ण लेे।

इसके पश्चात इन तीनों चूर्ण को अच्छी तरह मिलाकर किसी बड़े जार में भरकर रख लें । आपका धातु पोस्टिक चूर्ण बनकर तैयार है । इस चूर्ण को सुबह-शाम एक एक चम्मच ताजे गर्म दूध के साथ लेने से वीर्य बहुत जल्दी गाढ़ा होता है तथा शीघ्रपतन में आराम मिलता है ।

शीघ्रपतन की समस्या में क्या-क्या चीज खानी चाहिए?

यदि आप शीघ्रपतन से परेशान हैं तो आपको आपको अपने खाने में अंडो का नियमित सेवन करना चाहिए । आप अपने आहार में अनाज, अंकुरित अनाज तथा प्रोटीन युक्त चीजें शामिल करें । दूध, मक्खन, बदाम, किसमिस, काले चने इत्यादि का खूब सेवन करना चाहिए ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *