अच्छी सेहत का खजाना हैं फाइटोन्यूट्रिएंट्स – जानिय फाइटोन्यूट्रिएंट्स के फायदे और नुकसान

यदि आप अपनी सेहत को लेकर काफी कॉन्शियस रहते हैं तथा अपनी सेहत के साथ किसी भी प्रकार का कंप्रोमाइज नहीं करना चाहते हैं तो आपको स्वास्थ्य संबंधी जानकारियों के साथ अपने आप को लगातार अपडेट रखने की जरूरत है । क्योंकि जैसे-जैसे समय बदल रहा है वैसे वैसे नई नई वैज्ञानिक रिसर्च हो रही है तथा उनका रिजल्ट भी आ रहा है ।

इसी श्रंखला में हाल ही में एक साइंटिफिक रिसर्च फाईटो को लेकर हुई है । फाइटोन्यूट्रिएंट्स हमारी सेहत के लिए कितने जरूरी हैं, इनको हम कैसे प्राप्त कर सकते हैं यह सब कुछ हम इस लेख में जानेंगे । सबसे पहले हम जानते हैं कि यह फाइटोन्यूट्रिएंट्स क्या होते हैं ।

फाइटोन्यूट्रिएंट्स क्या होते हैं? What are Phytonutrients in Hindi?

फाइटोन्यूट्रिएंट्स (Phytonutrients) वास्तव में हरे पौधों के द्वारा उत्पादित किए जाने वाले रसायन होते हैं जो पेड़ पौधों की वृद्धि तथा उनके समुचित विकास के लिए आवश्यक होते हैं । फाइटोन्यूट्रिएंट्स को फाइटोकेमिकल्स भी कहा जाता है क्योंकि यह एक प्रकार का रसायन ही होता है जो पौधों के द्वारा अपनी वृद्धि तथा अच्छे स्वास्थ्य के लिए जरूरी होता है । फाइटोकेमिकल्स पौधों को कीटों से बचाते हैं तथा सूर्य के प्रकाश में मौजूद घातक पराबैंगनी किरणों से भी उनकी रक्षा करते हैं ।

विभिन्न वैज्ञानिक शोधों में यह पाया गया है कि यह फाइटोकेमिकल्स केवल पेड़ पौधों के लिए ही आवश्यक नहीं होते, बल्कि मनुष्य शरीर के लिए भी बहुत अधिक उपयोगी होते हैं । इनका सेवन करने से विभिन्न प्रकार के रोगों से लड़ने में मदद मिलती है तथा इम्यूनिटी मजबूत हो जाती है ।

फाइटोन्यूट्रिएंट्स केवल हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति को ही नहीं बढ़ाते बल्कि मेटाबॉलिज्म की प्रक्रिया को तेज करने, शरीर से विषैले पदार्थों (टॉक्सिंस) को बाहर निकालने में तथा टूटी हुई कोशिकाओं की मरम्मत करने में भी काफी हद तक मददगार होते हैं । फाइटोन्यूट्रिएंट्स एक प्रकार के सप्लीमेंट हैं जो हमारे शरीर के बेहतर स्वास्थ्य के लिए बहुत ज्यादा जरूरी होते हैं ।

फाइटोन्यूट्रिएंट्स में एंटीऑक्सीडेंट तथा एंटीइन्फ्लेमेटरी गुण भी मौजूद होते हैं जिस कारण फाइटोन्यूट्रिएंट्स का सेवन करने पर बढ़ती हुई उम्र में आने वाली समस्याओं में काफी लाभ देखने को मिलता है । फाइटोन्यूट्रिएंट्स शरीर को कई रोगों से दूर करते हैं ।

फाइटोन्यूट्रिएंट्स के स्रोत Sources of Phytonutrients in Hindi

फाइटोन्यूट्रिएंट्स मुख्य रूप से पौधों से प्राप्त होने वाले खाद्य पदार्थों में पाए जाते हैं, यही कारण है की चिकित्सकों के द्वारा भी आपको प्लांट बेस्ड डायट लेने की सलाह दी जाती है । फाइटोन्यूट्रिएंट्स के मुख्य स्रोत नीचे दिए गए हैं ।

  • फल
  • सब्जियां
  • साबुत अनाज
  • चाय
  • मेवे
  • फलियां
  • मसाले

फाइटोन्यूट्रिएंट्स के प्रकार तथा उनके फायदे

अभी तक हुई वैज्ञानिक शोध से यह पता चला है की प्रकृति में सैकड़ों हजारों प्रकार के फाइटोन्यूट्रिएंट्स मौजूद है, लेकिन इनमें से अभी तक कुछ गिने-चुने फाइटोन्यूट्रिएंट्स की ही खोज की गई है । नीचे हमने अभी तक ज्ञात फाइटोन्यूट्रिएंट्स के बारे में बताया हैं जिनको आप को जानना बहुत जरूरी है ।

  • कैरोटीनॉयड – Carotenoids
  • एलॉजिक एसिड – Ellagic Acid
  • रसवेराट्रोल – Resveratrol
  • फ्लेवनाइड – Flavonoids
  • फाइटोएस्ट्रोजन – Phytoestrogens
  • ग्लूकोसाइनोलेट- Glucosinolates

कैरोटीनॉयड – Carotenoids

कैरोटीनॉयड एक प्रकार के रंजक होते हैं जो पौधों में लगने वाले सब्जियों तथा फलों के चमकीले रंग के लिए जिम्मेदार होते हैं । अभी तक ज्ञात जानकारी के अनुसार 600 से भी ज्यादा कैरेक्टर नोट्स की खोज हो चुकी है, इनमें से अधिकांश क्रेडिट स्कोर खाद्य पदार्थों के माध्यम से सेवन किया जाता है । कुछ कैरोटीनॉयड के प्रकार नीचे दिए गए हैं –

  • अल्फा-कैरोटीन
  • बीटा कैरोटीन
  • बीटा cryptoxanthin
  • lutein
  • लाइकोपीन
  • zeaxanthin

कैरोटीनॉयड मुख्य रूप से एंटीऑक्सीडेंट का मुख्य स्रोत होते हैं तथा बहुत से कैरोटीनॉयड हमारे शरीर में विटामिन ए की कमी को दूर करते हैं । इनका प्रयोग करने से इम्यूनिटी सिस्टम मजबूत होता है तथा यह आंखों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक होते हैं । इसके अलावा इसका सेवन करने से कैंसर का खतरा भी काफी हद तक कम हो जाता है । यह निम्न खाद्य पदार्थों में पर्याप्त मात्रा में मौजूद होता है

  • कद्दू
  • गाजर
  • पालक
  • गोभी
  • टमाटर
  • संतरे
  • रतालू

एलॉजिक एसिड – Ellagic Acid

एलॉजिक एसिड एक ऐसा फाइटोन्यूट्रिएंट्स है जो मुख्य रूप से कोलेस्ट्रोल को कम करने के लिए मददगार होता है । यह फाइटोन्यूट्रिएंट्स पुरानी कोशिकाओं को नष्ट करता है तथा नई कोशिकाओं के बनने में मददगार होता है । यदि कोशिकाओं में गांठ बन जाए तो यह इसे खत्म करने में मदद करता है, यही कारण है कि इस फाइटोन्यूट्रिएंट्स का सेवन करने से कैंसर का खतरा भी काफी हद तक कम हो जाता है ।एलॉजिक एसिड निम्न खाद्य पदार्थ में मोजूद होता है ।

  • स्ट्रॉबेरीज
  • काले शहतूत
  • अंगूर
  • अनार
  • अखरोट

रसवेराट्रोल – Resveratrol

रसवेराट्रोल एक ऐसा फाइटोन्यूट्रिएंट्स है जो मुख्य रूप से ह्रदय एवं मस्तिष्क संबंधी समस्याओं को दूर करने में मददगार होता है । यदि आपको हृदय संबंधी समस्या है तो आपको रसवेराट्रोल को जरूर सेवन करना चाहिए । यह फाइटोन्यूट्रिएंट्स मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है तथा अच्छे मानसिक स्वास्थ्य के प्रति जिम्मेदार होता है । इस फाइटोन्यूट्रिएंट्स को आप निम्न खाद्य पदार्थों के द्वारा प्राप्त कर सकते हैं ।

  • मूंगफली
  • पिस्ता
  • स्ट्रॉबेरीज
  • ब्लूबेरिज
  • डार्क चॉकलेट

फ्लेवनाइड – Flavonoids

फ्लेवनाइड बहुत ही प्रमुख फाइटोन्यूट्रिएंट्स है । फ्लेवनाइड फाइटोन्यूट्रिएंट्स के कई प्रकार मौजूद है तथा इसको कई समूह तथा उप समूह में भी वर्गीकृत किया गया है । फ्लेवोनॉयड्स के कुछ उप समूह इस प्रकार हैं ।

  • Flavones
  • anthocyanins
  • flavanones
  • isoflavones
  • फ्लेवोनोल्स

फ्लेवनाइड फाइटोन्यूट्रिएंट्स एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है जिस कारण यह बढ़ती उम्र में आने वाली लक्षणों को दूर करने में मददगार होता है । इसके अलावा इसमें कैंसर रोधी गुण भी मौजूद होते हैं इस फाइटोन्यूट्रिएंट्स को ऑफ निम्न खाद्य पदार्थों से प्राप्त कर सकते हैं ।

  • हरी चाय
  • सेब
  • प्याज
  • कॉफी
  • पके फल
  • फलियां
  • अदरक

फाइटोएस्ट्रोजन – Phytoestrogens

फाइटोएस्ट्रोजन एक ऐसा फाइटोन्यूट्रिएंट्स है जो ज्यादातर महिलाओं के लिए फायदेमंद होता है, क्योंकि फाइटोएस्ट्रोजन महिलाओं के शरीर में एस्ट्रोजन हार्मोन की तरह कार्य करता है । जिस कारण महिलाओं में मासिक धर्म के समय होने वाली समस्याओं में काफी आराम मिलता है । जो महिलाएं मासिक धर्म के नजदीक होती हैं उन्हें फाइटोएस्ट्रोजन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए ।

लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है की यह फाइटोन्यूट्रिएंट्स केवल महिलाओं को ही लाभ पहुंचाता है, बल्कि अन्य रोगों में यह पुरुषों को भी लाभ पहुंचाता है । इस फाइटोन्यूट्रिएंट्स का सेवन करने से कैंसर, ह्रदय रोग तथा ऑस्टियोपोरोसिस जैसी समस्याओं में सकारात्मक लाभ देखने को मिले हैं । इस फाइटोएस्ट्रोजन को आप निम्न खाद्य पदार्थ से प्राप्त कर सकते हैं ।

  • सोया
  • संतरे
  • गाजर
  • कॉफी
  • फलियां
  • ब्रोकोली

ग्लूकोसाइनोलेट- Glucosinolates

ग्लूकोसाइनोलेट का सेवन करने से चपापचय क्रियाएं सही प्रकार से होती हैं । इसके अलावा यह पलटू न्यूट्रिएंट्स सूजन तथा कैंसर को कम करने में भी मददगार होता है । ग्लूकोसाइनोलेट को आप निम्न खाद्य पदार्थों से प्राप्त कर सकते हैं ।

  • ब्रोकोली
  • गोभी
  • पत्ता गोभी
  • सरसों

इसके अलावा कुछ अन्य फाइटोन्यूट्रिएंट्स भी होते हैं जो कि इस प्रकार हैं ।

  • एंथोसायनाइड
  • कैपसेसिन
  • कर्क्यूमिन
  • टैनिन

फाइटोन्यूट्रिएंट्स का सेवन करने से होने वाले स्वास्थ्य लाभ

जैसा कि आपको ऊपर बताया की अलग-अलग फाइटोन्यूट्रिएंट्स के लाभ अलग-अलग होते हैं, लेकिन यदि हम सामान्य तौर पर बात करें तो फाइटोन्यूट्रिएंट्स हमारे शरीर में निम्न स्वास्थ्य लाभों के प्रति जिम्मेदार होते हैं ।

  1. फाइटोन्यूट्रिएंट्स का सेवन करने से हमारी रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ती है ।
  2. यह हमारे शरीर में विषैले पदार्थों टॉक्सिंस को निकालने में मददगार होते हैं ।
  3. इनका सेवन करने से मस्तिष्क बिल्कुल संतुलित रहता है तथा हार्मोन संतुलन भी बना रहता है ।
  4. फाइटोन्यूट्रिएंट्स हमारी त्वचा, आंखों, हृदय, मस्तिष्क तथा बालों के लिए लाभदायक होते हैं ।
  5. फाइटोन्यूट्रिएंट्स का सेवन करने से विभिन्न प्रकार की बीमारियां जैसे कैंसर, हार्ट प्रॉब्लम तथा ब्रेन प्रॉब्लम मैं काफी अच्छा फायदा होता है ।

फाइटोन्यूट्रिएंट्स से होने वाले नुकसान एवम् साइड इफेक्ट

फाइटोन्यूट्रिएंट्स हमें प्राकृतिक रूप से फलों तथा सब्जियों के माध्यम से ही प्राप्त होते हैं । अभी तक प्राप्त जानकारी के अनुसार प्राकृतिक रूप से प्राप्त होने वाले हैं फाइटोन्यूट्रिएंट्स का सेवन करने से किसी प्रकार का कोई नुकसान या साइड इफेक्ट देखने को नहीं मिला है ।

हम आपको यही सलाह देंगे, की आप अधिक से अधिक फाइटोन्यूट्रिएंट्स का सेवन करें । लेकिन यदि आप चाहते की चाहते हैं की आपको अधिक से अधिक फाइटोन्यूट्रिएंट्स का लाभ मिल सके तो आप नीचे दिए गए लिंक से भी फाइटोन्यूट्रिएंट्स को माँगा सकते हैं । हमने काफी रिसर्च करके आपके लिए ये प्रोडक्ट ढूंढे हैं ।

Leave a Comment