व्योषादि गुग्गुल के गुण फायदे उपयोग एवं नुक्सान Vyoshadi Guggulu uses and benefits in hindi

By | April 23, 2020

व्योशादी गुग्गुल क्या है? What is Vyoshadi Guggulu?

नमस्कार दोस्तों आज हम बात करेंगे व्योशादी गुग्गुल (Vyoshadi Guggulu) के बारे में । व्योशादी गुग्गुल जिसे नवक गुग्गुल के नाम से भी जाना जाता है एक आयुर्वेदिक औषधि है, जिसका मुख्य उपयोग कफ नाशक एवं मोटापा नाशक के रूप में किया जाता है ।

व्योशादी गुग्गुल में ऐसी जड़ी बूटियां प्रयोग की जाती हैं जो शरीर से वात एवं कफ को दूर कर देती हैं, कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित रखती हैं तथा लिपिड एवं ट्राइग्लिसराइड को भी कम करती हैं । यदि हम इस औषधि की तासीर की बात करें तो इस औषधि की तासीर गर्म होती है ।

यह दवाई जहां एक और वात एवं कफ को कम करती है वहीं दूसरी ओर यह पित्त को बढ़ाने वाली भी होती है । इसलिए इस औषधि की ज्यादा मात्रा लेने पर पित्त बढ़ने की संभावना बन जाती है । आइए अब हम विस्तार से व्योशादी गुग्गुल के बारे में बात करते हैं ।

व्योशादी गुग्गुल इन हिंदी Vyoshadi Guggulu in hindi

व्योशादी गुग्गुल का एक दूसरा नाम नवक गुग्गुल भी है । व्योशादी गुग्गुल को गुग्गुल कल्प के नाम से जाना जाता है । गुग्गुल कल्प उन औषधियों को कहते हैं जिनमें गुग्गुल की मात्रा अन्य ओषधियों की तुलना में अधिक होती है । इस औषधि में भी गुग्गुल की मात्रा अन्य औषधियों की तुलना में काफी ज्यादा होती है ।

यदि हम व्योशादी गुग्गुल के चिकित्सीय लाभ के बारे में बात करें तो इस औषधि का सबसे प्रमुख कार्य कोलस्ट्रोल एवं मोटापे को नियंत्रित करना तथा लिपिड एवं ट्राइग्लिसराइड को नियंत्रित रखना होता है । आइए अब हम बात करते हैं कि ब्लू शादी गुग्गुल में कौन-कौन सी औषधियां प्रयोग की जाती हैं ।

व्योशादी गुग्गुल के घटक द्रव्य Vyoshadi Guggulu ingredients in hindi

  • शुंठी Shunthi Zingiber officinale Rz. 1 Part
  • मरिच / काली मिर्च Marica Piper nigrum Fr. 1 Part
  • पिप्पली Pippali Piper longum Fr. 1 Part
  • चित्रक Citraka Plumbago zeylanica Rt. 1 Part
  • मोथा Musta Cyperus rotundus Rz. 1 Part
  • हरीतकी Haritaki Terminalia chebula P. 1 Part
  • विभितकी Bibhitaka Terminalia belerica P. 1 Part
  • आमलकी Amalki Emblica officinalis P. 1 Part
  • विडंग Vidanga Embelia ribes Fr. 1 Part
  • गुग्गुल Guggulu- Shuddha Commiphora wightii O.R. 9 Parts

आइए अब हम व्योशादी गुग्गुल के प्रमुख घटक द्रव्य के बारे में संक्षेप में बात करते हैं ।

त्रिकटु सोंठ काली मिर्च एवं पिपली के मिश्रण को त्रिकटु कहा जाता है । त्रिकटु का सेवन करने से पाचन संस्थान को बल मिलता है, पेट गैस एवं कब्ज दूर होती है । यकृत अर्थात लीवर को नई ऊर्जा की प्राप्ति होती है । त्रिकटु की तासीर गर्म होती है, यही कारण है कि व्योशादी गुग्गुल कफ दोष नाश करने के लिए बहुत अच्छा कार्य करती है ।

त्रिफला व्योशादी गुग्गुल में हरड़, बहेड़ा, आंवला अर्थात त्रिफला भी मौजूद होता है । त्रिफला जहां एक और आंतों की सफाई करता है एवं पेट गैस एवं कब्ज को दूर करता है वहीं दूसरी ओर त्रिफला बहुत ही अच्छा वायु नाशक माना जाता है । त्रिफला का सेवन करने से रक्त परिसंचरण भी सही होता है । त्रिफला शरीर में से विषाक्त पदार्थों को दूर करता है एवं शरीर के तीनों दोषों को संतुलित रखता है ।

गुग्गुल को गुग्गुल नामक पेड़ से गोंद के रूप में प्राप्त किया जाता है । गुग्गुल का प्रमुख कार्य शरीर की सूजन, दर्द एवं मोटापे को दूर करना होता है । यही कारण है कि शादी गुग्गुल मोटापे को दूर करने के लिए बहुत ही अच्छी औषधि मानी जाती है । क्योंकि व्योशादी गुग्गुल में गुग्गुल की ज्यादा मात्रा होती है तथा गुग्गुल का प्रमुख कार्य मोटापा एवं कफ को दूर करना होता है, जिस कारण जो शादी को गुड़ के साथ सेवन करने से मोटापा, कोलेस्ट्रोल एवं कफ नियंत्रित रहते हैं ।

व्योशादी गुग्गुल के चिकित्सकीय लाभ Vyoshadi Guggulu Benefits in hindi

  • व्योशादी गुग्गुल शरीर में से वायु एवं कफ को नियंत्रित रखती है तथा उन्हें बढ़ने नहीं देते हैं ।
  • इस औषधि का सेवन करने से पित्त बढ़ जाता है ।
  • त्रिफला युक्त होने के कारण यह मेटाबॉलिज्म अर्थात पाचन संस्थान को बहुत ही अच्छा रखती हैं ।
  • पेट गैस एवं कब्ज मैं भी यह दवा फायदा करती है ।
  • बड़ी आंत की सफाई करती है तथा शरीर में से विषैले पदार्थों को निकालने में मदद करती है ।
  • शरीर में से बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल को कम करती है, खराब कोलेस्ट्रॉल को घटाती है एवं शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखती है ।
  • मोटापे को कम करती है ।
  • इस दवा का सेवन करने से आम दोष मैं लाभ मिलता है । आम दोष का मुख्य कारण पाचन संस्थान की गड़बड़ी होती है जिससे रक्त में दूषित पदार्थ आ जाते हैं एवं रक्त विशाक्त हो जाता है ।
  • इस औषधि का सेवन करने से आम दोष के कारण उत्पन्न हुए विषैले पदार्थ रक्त में नहीं जाते हैं तथा रक्त साफ रहता है ।
  • सूजन एवं मांसपेशियों के दर्द में लाभकारी

व्योशादी गुग्गुल की सेवन विधि एवं मात्रा Vyoshadi Guggulu Dosage and Directions in hindi


एक से दो गोली सुबह शाम ताजे पानी के साथ भोजन करने के पश्चात ले सकते हैं । अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें ।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *