स्वर्ण भस्म के फायदे उपयोग और नुकसान Swarna Bhasma Uses, Benefits and Side effects

By | February 11, 2020

अगर हम स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) को आयुर्वेद का चमत्कार कहें तो यह कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी ‌‌‍। स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) आयुर्वेद की एक अनुपम भेंट है, जो कि अमृत के समान है ।

स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) अनेक जटिल बीमारियों जैसे हृदय रोग, मस्तिष्क रोग तथा तंत्रिका तंत्र से जुड़ी अनेक समस्याओं में रामबाण हैं । बहुत से लोग स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) के अद्वितीय फायदों के बारे में नहीं जानते हैं तथा इस इस्तेमाल नहीं करते हैं ।

आज इस लेख में हम आपको स्वर्ण भस्म के फायदे (benefits of swarna bhasma) तथा इसको उपयोग करने की पूरी जानकारी देंगे । साथ ही हम आपको बताएंगे कि यदि आप इसे गलत तरीके से इस्तेमाल करते हैं तो आपको क्या-क्या समस्याएं आ सकते हैं ।


स्वर्ण भस्म के फायदे Swarna Bhasma Benefits in Hindi

हृदय रोग में लाभकारी स्वर्ण भस्म Swarna Bhasma Benefits in Heart Problems

स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) हृदय के रोगों के लिए एक चमत्कारी औषधि है । जिन लोगों को हार्ट फेलियर या हार्टअटैक की समस्या आई हो या जिनका दिल बहुत ज्यादा कमजोर हो गया हो, जिन्हें बहुत  ज्यादा घबराहट या बेचैनी रहती हो तो ऐसे में स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) का उपयोग कराया जा सकता है ।

हम आपको बता दें कि हृदय संबंधी बीमारियां क्रॉनिक डिसऑर्डर के अंतर्गत आती हैं तथा स्वर्ण भस्म (swarna bhasma)  क्रोनिक डिसऑर्डर के लिए एक सर्वश्रेष्ठ होती है ।

कैंसर में लाभकारी स्वर्ण भस्म Swarna Bhasma Benefits in Cancer

स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) का प्रयोग कैंसर से लड़ने के लिए भी किया जाता है । आयुर्वेद विशेषज्ञों ने इस बात को सिद्ध किया है कि यदि कैंसर के रोगियों को स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) युक्त दवाई दी जाए तो उन्हें शीघ्र फायदा होता है । स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) में कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो कैंसर की बीमारी में बहुत ज्यादा फायदा करता है ।

मस्तिष्क की बीमारियों में लाभदायक स्वर्ण भस्म Swrna Bhasma Benefits in Brain Diseases

स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) मस्तिष्क की गंभीर एवं जटिल बीमारियों में बहुत अधिक फायदेमंद होता है । जिन लोगों की याददाश्त किसी भी कारण से बहुत ज्यादा कमजोर हो गई हो या दिमाग में कोई गंभीर बीमारी पैदा हो गई हो तो ऐसे में स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) का प्रयोग किया जा सकता है । 



लेकिन यदि कोई मस्तिष्क की गंभीर बीमारी नहीं है तो भी स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) का प्रयोग एक टोनिक के रूप में किया जा सकता है । इससे दिमाग को एक नई ताकत और ऊर्जा प्राप्त होती है ।


तनाव में लाभकारी स्वर्ण भस्म Swrna Bhasma Benefits in Hyper tension


स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) को तनाव कम करने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है । तनाव का मुख्य कारण हमारे मस्तिष्क से निकलने वाला कैटिकोलामाइंस हार्मोन होता है । जब यह हार्मोन अनियंत्रित हो जाता है तो हमें तनाव होने लगता है । स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) हमारे मस्तिष्क में हार्मोनल बैलेंस को कंट्रोल करता है  और हमें तनाव से दूर रखता है ।


गर्भावस्था में लाभकारी स्वर्ण भस्म Swarna Bhasma Benefits in Pregnancy


स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) का उपयोग कुछ विशेष स्थितियों में गर्भावस्था में भी किया जाता है । कुछ महिलाएं जो शारीरिक रूप से कमजोर होती हैं उनमें गर्भावस्था के दौरान खून की कमी यानी एनीमिया की समस्या पैदा हो जाती है ।


जिस कारण गर्भ में पल रहे शिशु को ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा नहीं मिल पाती है । ऐसे में यदि स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) युक्त दवाइयों का प्रयोग कराया जाए तो उसे बहुत अधिक फायदा पहुंचता है तथा गर्भ में पल रहे शिशु के स्वास्थ्य पर भी अनुकूल प्रभाव पड़ता है ।

नोट: गर्भावस्था में स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) युक्त औषधियां लेने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श अवश्य करें ।


त्वचा रोगों में लाभकारी स्वर्ण भस्म Swarna Bhasma Benefits in Skin diseases


स्वर्ण भसम (swarna bhasma) में कुछ ऐसी खनिज लवण पाए जाते हैं जो त्वचा से जुड़ी हुई बीमारियों में बहुत ज्यादा फायदेमंद साबित हुए हैं । जैसे त्वचा में सूजन आ जाना, लालिमा आना, त्वचा में जलन होना या खुजली होना जैसी समस्याओं में स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) फायदा करती है । स्वर्ण भस्म के सेवन से नई सेल्स क्रिएट होती हैं जिससे हमारी त्वचा स्वस्थ रहती हैं।


मधुमेह एवं मर्दाना कमजोरी में लाभकारी स्वर्ण भस्म Swarna Bhasma benefits in Diabetes and Sexual Problems


स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) का सबसे प्रमुख उपयोग मधुमेह एवं मर्दाना कमजोरी में होता है । बढ़ती उम्र के कारण खासकर की 50 वर्ष की उम्र के पश्चात जब मधुमेह की समस्या हो जाती है तो मधुमेह के कारण मर्दाना ताकत भी अपने आप ही कम हो जाती है ।


इस स्थिति में मर्दाना ताकत के लिए साधारण दवाइयां कारगर नहीं होती हैं । यदि इस स्थिति में स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) का सेवन किया जाए तो जहां मधुमेह कंट्रोल लेता है वही मर्दाना कमजोरी भी ठीक हो जाती है । बढ़ती उम्र में स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) का सेवन बहुत अधिक फायदेमंद साबित हुआ है । 


अन्य समस्याओं में लाभकारी स्वर्ण भस्म Swarna Bhasma benefits in various diseases


इसके अलावा स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) अन्य कई बीमारियों जैसे महिलाओं में बांझपन की समस्या, आंखों की अनेक प्रकार की बीमारियों एवं रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में भी लाभकारी होता है । स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) को लेने से शरीर में अनेक प्रकार की छोटी-बड़ी समस्याओं में फायदा होता है ।


स्वर्ण भस्म के सेवन में सावधानियां Precautions while using Swarna Bhasma


स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) सोने से बनी हुई एक बहुमूल्य आयुर्वेदिक औषधि है । यदि स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) की मात्रा और सेवन विधि का ध्यान न रखा जाए तो इसका सेवन करने से शरीर में अनेक प्रकार की समस्याएं पैदा हो सकती हैं तथा फायदे की जगह नुकसान भी हो सकता है । आइए जानते हैं स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) का सेवन करने से कौन-कौन सी समस्याएं हो सकती हैं ।


स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) का अनियंत्रित मात्रा में सेवन करने से पेट से संबंधित समस्याएं जैसे पेट दर्द, आंतों में सूजन आना, पेट में ऐठन, शारीरिक कमजोरी, थकान जैसी समस्याएं हो सकती हैं ।


स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) जहां मर्दाना कमजोरी को दूर करती है वहीं दूसरी ओर यदि इसकी गलत किया जाए तो यह व्यक्ति को नपुंसकता की ओर भी ले जा सकती है । स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) कि अनियंत्रित मात्र के सेवन करने से हाथ पैरों का कांपना जैसी समस्या आ सकती हैं ।


स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) कभी भी बच्चों को नहीं देना चाहिए । बच्चों की पहुंच से इसे हमेशा दूर रखा जाए । स्वर्ण भस्म किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख में ही लेना चाहिए ।


स्वर्ण भस्म कहाँ से खरीदें From where to buy Swana Bhasms

स्वर्ण भस्म (swarna bhasma) यदि आपको लोकल केमिस्ट से न मिले तो आप इसे online भी माँगा सकते हैं । हमने नीचे इसे खरीदने का online लिंक दिया है। आप इस लिंक से इस दावा को खरीद सकते हैं । 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *