रास्नादि गुग्गुल के गुण फायदे उपयोग एवं नुक्सान Rasnadi Guggulu uses and benefits in hindi

By | April 20, 2020

रास्नादि गुग्गुल क्या है? What is Rasnadi Guggulu in hindi?

 
रास्नादि गुग्गुल (Rasnadi Guggulu) एक आयुर्वेदिक औषधि है जिसका प्रमुख कार्य गठिया बाय एवं दर्द को कम करने के लिए किया जाता है । रास्नादि गुग्गुल बाजार में गोलियों अर्थात टेबलेट के रूप में अवेलेबल है तथा इसका निर्माण वैद्यनाथ, डाबर, झंडू एवं दिव्य पतंजलि जैसी कंपनियों के द्वारा किया जाता है ।
 
यदि हम रास्नादि गुग्गुल के नाम को देखें तो पता चलता है कि इस ओषधि में मुख्य रूप से दो ओषधियां प्रमुख रूप से इस्तेमाल की गई हैं । पहली औषधि है रसना (रसायन) एवं दूसरी औषधि है गुग्गुल । इसलिए इस औषधि का नाम रासनादी गुग्गुल पड़ा है । आइए सबसे पहले हम इस औषधि के घटक द्रव्य के बारे में बात करते हैं उसके पश्चात हम इस ओषधि के गुणधर्म एवं उपयोग के बारे में बात करेंगे ।
 

रास्नादि गुग्गुल के घटक द्रव्य Rasnadi Guggulu Ingredients in hindi


रास्नादि गुग्गुल में निम्न घटक द्रव्य मौजूद होते हैं ।
 
    • देवदार
    • गिलोय
    • गुग्गुल
    • रसना
    • अदरक
    • अरंडी

रास्नादि गुग्गुल इन हिंदी Rasnadi Guggulu in hindi

 
आइए अब हम इन घटक द्रव्य के बारे में संक्षेप में बात करते हैं ।
 
रसना जिसे रसायना भी कहा जाता है एक ऐसी आयुर्वेदिक औषधि है जिसका इस्तेमाल करने से अर्थराइटिस अर्थात जोड़ों के दर्द में बहुत अधिक लाभ मिलता है ।

गिलोय का प्रमुख कार्य गठिया एवं जोड़ों की सूजन को दूर करना होता है ।

अरंडी मूल का प्रमुख कार्य गठिया बाय एवं जोड़ों के दर्द को दूर करना होता है । साथ ही यह जोड़ों में आई हुई सूजन को भी नियंत्रित रखता है ।

देवदारू का उपयोग भी अर्थराइटिस अर्थात जोड़ों के दर्द एवं सूजन में किया जाता है ।

गुग्गुल गुग्गुल का प्रमुख कार्य जोड़ों के दर्द, सूजन को कम करना होता है । इसके अलावा गुग्गुल कोलेस्ट्रोल घटाता है तथा वजन को नियंत्रित रखता है । गुग्गुल एक anti inflammatory एवं एनाल्जेसिक के रूप में प्रयोग करने वाली औषधि है ।
 

रास्नादि गुग्गुल के गुण एवं उपयोग Rasnadi Guggulu benefits in hindi

    • जैसा हमने आपको ऊपर बताया रास्नादि गुग्गुल का सबसे प्रमुख कार्य वायु विकारों जैसे कि आमवात, गठिया, कमर दर्द, जोड़ों का दर्द आदि को दूर करना होता है ।
    • इसके अलावा यदि शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बहुत ज्यादा बढ़ गई हो, जिस कारण हाथों एवं पैरों की उंगलियां टेडी मेडी हो गई हो तो इस स्थिति में भी रासनादी गुग्गुल का प्रयोग करने से बहुत अधिक लाभ मिलता है ।
    • रास्नादि गुग्गुल वायुदोष के साथ साथ कफ नाशक भी होता है ।
    • रास्नादी गुग्गुल का सेवन करने से कफ दोष दूर होते हैं एवं जोड़ों में जमा हुआ कफ दूर हो जाता है ।
    • इसके अतिरिक्त रासनादी गुग्गुल बहुत ही अच्छी दीपक एवं पाचक भी है, जो जठराग्नि को प्रदीप्त कर मेटाबॉलिज्म को संतुलित रखती है ।
    • रास्नादि गुग्गुल पुराने से पुराने गठिया बाय एवं वायु दोष में सर्वोत्तम कार्य करती है ।
    • रासनादी गुग्गुल को महायोगराज गुग्गुल के साथ प्रमुख ओषधियां के रूप में गठिया बाय रोगों में प्रयोग किया जाता है ।
 

रास्नादी गुग्गुल की मात्रा एवं सेवन विधि Rasnadi Guggulu dosage and directions in hindi


रास्नादी गुग्गुल की दो दो गोली सुबह शाम गर्म पानी के साथ भोजन के पश्चात सेवन कर सकते हैं । पानी के अतिरिक्त रसनादी क्वाथ या दशमूल क्वाथ का प्रयोग भी किया जा सकता है । अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें ।
 

कहां से खरीदें Where to buy


रास्नादी गुग्गुल को आप लोकल मार्केट से भी खरीद सकते हैं या ऑनलाइन भी मंगा सकते हैं ।
 
 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *