मृत संजीवनी सुरा के फायदे और साइड इफ़ेक्ट Mrit Sanjivani Sura ke fayde or Side Effects

By | May 15, 2020

मृत संजीवनी सुरा क्या है? Mrit Sanjivani Sura kya hai?

मृत संजीवनी सुरा एक आयुर्वेदिक शास्त्रोक्त औषधि है जो पाचन संस्थान, लिवर की कमजोरी, मूत्र संस्थान के संक्रमण, बुखार, डायरिया, खांसी, अस्थमा एवं कमजोरी में एक शक्तिवर्धक टॉनिक के रूप में प्रयोग की जाती है । जैसा कि इस औषधि के नाम से ही पता चलता है कि यह औषधि मृत प्राय अर्थात मृत्यु के निकट पहुंच चुके व्यक्ति को भी संजीवनी अर्थात नया जीवन प्रदान करने वाली औषधि है ।

इस औषधि में सुरा शब्द का अर्थ है शराब,  लेकिन यह शराब वह नहीं है जो बाजार में मिलती है । यह औषधि आयुर्वेद की आसाव एवं अरिष्ट विधि से तैयार की जाती है तथा इस औषधि में सेल्फ जेनरेटेड अल्कोहल की मात्रा 15% से भी अधिक होती है, इसीलिए इस औषधि के नाम के आगे सुरा लिखा होता है । अल्कोहल युक्त होने के कारण इस औषधि को अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए ।

मृत संजीवनी सुरा के घटक द्रव्य Mrit Sanjivani Sura ke ghatak dravy

पुराना गुड़ बबूल की छाल, अनार, वसाका, मोचरस, लज्जालु, अतीस, अश्वगंधा, देवदार, बिल्व, श्योनका, पटाला, शालपर्णी, प्रिश्नपर्णी, वृहती, कंटकारी, गोक्षुर, इन्द्रवरुणी, कोला, एरण्ड, पुनर्नवा, धतुरा, लौंग, इलायची, दालचीनी, पद्माख, उशीर, लाल चन्दन, सफ़ेद चन्दन, सौंफ़, यमानी, सोंठ, मिर्च, पीपल, साठी, जायफल, नागरमोथा, मेथी, आवश्यकता के अनुसार पानी 

मृत संजीवनी सुरा के फायदे Mrit Sanjivani Sura ke fayde

  • यह औषधि लीवर को ताकत प्रदान करती है, जिससे लीवर से पाचक रसों का स्राव उचित मात्रा में होता है ।
  • लीवर के सही कार्य करने से पाचन तंत्र दुरुस्त रहता है जिससे पेट गैस, कब्ज, एसिडिटी आदि समस्याओं में भी आराम मिलता है ।
  • बुखार के पश्चात आने वाली कमजोरी में इस टॉनिक का प्रयोग करने से बहुत अधिक लाभ मिलता है ।
  • सर्दियों के मौसम में इस औषधि का सेवन करने से शरीर को गर्मी मिलती है जबकि गर्मियों में सेवन करने से शरीर को ठंडक मिलती है ।
  • यह औषधि तेज बुखार एवं बुखार की वजह से होने वाली बेचैनी को दूर कर देती है ।
  • इस औषधि का सेवन करने से दस्त एवं अतिसार की बीमारी में आराम मिलता है ।
  • इस औषधि का सेवन करने से खांसी एवं दमा श्वास में भी आराम मिलता है ।

सेवन विधि एवं मात्रा Sevan vidhi evam maatra

इस औषधि की 15 से 20 ड्रॉप्स दिन में तीन बार गुनगुने पानी में मिलाकर भोजन के पश्चात सेवन की जा सकती है । इस औषधि को शराब की तरह अधिक मात्रा में सेवन करने से इसके साइड इफेक्ट हो सकते हैं, क्योंकि यह शराब नहीं है । अतः इसे शराब की तरह पीने की भूल नहीं करनी चाहिए ।

मृत संजीवनी सुरा के साइड इफेक्ट Mrit Sanjivani Sura ke side effect

इस औषधि की सही मात्रा ना लेने पर निम्न दुष्परिणाम हो सकते हैं ।

  • पतले पतले दस्त आना
  • चक्कर आना
  • सिर दर्द रहना
  • पेट खराब हो जाना

इस औषधि को किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख एवं सलाह से ही लेना चाहिए । इस औषधि को डाबर एवं वैदनाथ जैसी कंपनियां बनाती हैं।

 
 

 

One thought on “मृत संजीवनी सुरा के फायदे और साइड इफ़ेक्ट Mrit Sanjivani Sura ke fayde or Side Effects

  1. Ram Shanker

    . There is some problem diagnosed is prostate enlargement of 56.3×25.9×35.1mm volume 26.77 ml with normal in shape. . Also cortical cysts with BHP grade1. Uric acid 9.30 mg/dl.
    Have flow problem with last four months & Swelling pain in joints of toe & foot fingers .
    Never eat nonveg, alcohol or tobacco, very less use of pulses, tea, coffee etc from years. Present age 56, night 156 cm, weight 57 kg.
    Is there suggestion for home or ayurvedic ? Some one suggested URICARE – PUNARVASHU Tablets.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *