लोहासव आयुर्वेदिक आयरन सिरप के फायदे और नुकसान Lohasava Syrup Benefits in Hindi

By | March 21, 2020
Lohasava Syrup Benefits in Hindi नमस्कार दोस्तों आज हम लोहासव आयुर्वेदिक आयरन सिरप के बारे में विस्तार से बात करेंगे । लोहासव सिरप एक आयुर्वेदिक औषधि है जो रक्ताल्पता अर्थात एनीमिया, शारीरिक कमजोरी, थकावट, त्वचा के रोग, हृदय की समस्याओं, डायबिटीज, जलोदर, दम्मा, बवासीर तथा लिवर की बीमारियों में एक टॉनिक के रूप में काम करता है । लोहासव में आयरन प्रचुर मात्रा में होता है । इसका प्रयोग करने से बड़े हुए प्लीहा में बहुत अच्छा फायदा मिलता है ।
 

लोहासव सिरप क्या है What is Lohasava Syrup?

लोहासव एक आयुर्वेदिक टॉनिक है, जिसमें आयरन पर्याप्त मात्रा में होता है । लोहासव सिरप को किनवन विधि द्वारा तैयार किया जाता है । इसमें 4% से 10% तक अल्कोहल होता है । लोहासव के सेवन से हिमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ती है, पाचन शक्ति मजबूत होती  है, बवासीर तथा अन्य बीमारियों में लाभ पहुंचता है ।
 
 
लोहासव के फायदे Lohasava Syrup Benefits in Hindi
  • लोहासव जठराग्नि को प्रदीप्त करता है, जिससे यह पाचन तंत्र के लिए बहुत ही उत्तम टॉनिक है ।
  • लोहासव सिरप के सेवन करने से वात और कफ नियंत्रित होते हैं ।
  • यह टॉनिक पेट के कीड़ों को नष्ट कर देता है ।
  • लोहासव सिरप के सेवन करने से पीलिया तथा एनीमिया(रक्ताल्पता) रोग में फायदा होता है ।
  • यह सिरप खून की सफाई करता है ।
  • शरीर के की सभी प्रकार की सूजन को दूर करता है ।
  • आयरन पर्याप्त मात्रा में होने के कारण यह टॉनिक हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाता है ।
  • इस टॉनिक का सेवन करने से लीवर को नई ऊर्जा मिलती है जिससे लिवर सुचारू रूप से कार्य करता है ।
  • यह पाचन शक्ति बढ़ाता है तथा मेटाबॉलिज्म को सही करता है ।
  • इस सिरप के सेवन करने से यकृत तथा प्लीहा को बहुत लाभ होता है ।
  • इस सिरप के सेवन करने से बवासीर तथा त्वचा की कई बीमारियों में लाभ होता है ।

लोहासव सिरप की खुराक Lohasava Syrup Dosage

लोहासव सिरप को सुबह नाश्ते के पश्चात एवं रात को खाना खाने के पश्चात 12ml से 24ml तक दिन में दो बार लिया जा सकता है । इसमें पानी की समान मात्रा में मिलाकर सेवन करना चाहिए । अधिक जानकारी के लिए आप अपने चिकित्सक से संपर्क करें ।
 

लोहासव सिरप के दुष्प्रभाव Lohasava Syrup Side Effects

 
यदि आप इस टॉनिक को चिकित्सक की देखरेख में लेते हैं तो इससे आपको किसी प्रकार का कोई दुष्प्रभाव या साइड इफेक्ट नहीं होगा । लेकिन यदि आप इसको अधिक मात्रा में ले लेंगे तो इससे आपको निम्न नुकसान हो सकते हैं ।
  • छाती में जलन होना
  • गैस बनना
  • त्वचा में लाल रंग के दाने होना
  • चकत्ते पड़ना इत्यादि
इस दवा में गुड़ और शहद होता है । इसलिए डायबिटीज के पेशेंट को इस दवा का सेवन चिकित्सक की देखरेख में करना चाहिए ।
 

पैकिंग एवं निर्माता Brands

लोहासव सिरप Baidyanath, Dabur, Patanjali तथा अन्य कई कंपनियां बनाती है । यह सिरप 225ml, 450ml तथा 680ml की पैकिंग में मार्केट में अवेलेबल है ।

Recommended Products for you:


Kerala Ayurveda Lohasavam 435 Ml

Dabur Lohasav 450 Ml

Dhootapapeshwar Lohasav – 450 ml
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *