हिमालया Liv 52 सिरप एवं टेबलेट के फायदे और नुक्सान Himalaya Liv 52 Tablet & Syrup Uses in Hindi

By | November 15, 2020

हिमालया Liv 52 सिरप एवं टेबलेट क्या है?

हिमालया Liv 52 सिरप एवं टेबलेट हिमालय ड्रग कंपनी के द्वारा बनाई जाने वाली एक आयुर्वेदिक दवा है जो मुख्य रूप से लीवर से संबंधित समस्याओं में सफलतापूर्वक प्रयोग की जाती है । यह दवा लीवर से विषाक्त पदार्थों को निकालती हैं तथा लीवर की विषाक्त पदार्थों से रक्षा भी करती हैं । यह दवा यकृत की क्रियाशीलता को बढ़ाती है । यह सिरप, टेबलेट एवं ड्रॉप्स के रूप में मौजूद है ।

Liv 52 हिमालय ड्रग कंपनी की एक सर्वोत्तम एवं सुप्रसिद्ध दवा है जिसे दुनिया के विभिन्न देशों में प्रयोग किया जाता है । यह पूर्ण रूप से आयुर्वेदिक दवा है जिसमें कासनी, मकोय, अर्जुन जैसी जड़ी बूटियां मौजूद होती हैं । यह सभी जड़ी बूटियां हमारे यकृत के लिए बहुत अधिक फायदेमंद होती हैं । विभिन्न वैज्ञानिक अनुसंधान के द्वारा यह प्रमाणित हो चुका है कि लिव-52 लीवर के लिए एक बेहतरीन टॉनिक है । आयुर्वेद विशेषज्ञ के द्वारा लिव-52 को अपने मरीजों को recommend किया जाता है ।

हिमालया Liv-52 दवा कैसे काम करती है ?

आपके मन में यह प्रश्न उठता होगा कि आखिर लिव-52 टॉनिक किस प्रकार काम करता है तथा इससे हमें क्या फायदा होता है । लिव-52 टॉनिक का मुख्य कार्य यकृत की विषैले पदार्थों से रक्षा करना होता है । लिव-52 हेपेटाइटिस के खिलाफ काम करता है तथा इसमें मजबूत हिपैटोप्रोटेक्टिव गुण मौजूद होते हैं जिस कारण यह हेपेटाइटिस के अलावा पीलिया में भी अच्छा लाभ दिखाती है ।

यह टॉनिक भूख बढ़ाता है तथा पाचन तंत्र को मजबूत बनाने में मददगार होता है । इसका सेवन करने से खून की कमी, पीलिया, भूख ना लगना जैसी समस्याओं में बहुत अच्छा लाभ देखने को मिलता है ।

Liv-52 के स्वास्थ्य लाभ

जैसा कि हमने आपको बताया लिव-52 मुख्य रूप से लीवर की बीमारियों में ही प्रयोग किया जाता है । इसके निम्नलिखित स्वास्थ्य लाभ होते हैं ।

  1. स्वस्थ लीवर
  2. यकृत टॉनिक के रूप में
  3. भूख में सुधार
  4. पाचन और अवशोषण में सुधार
  5. वजन बढ़ने में सहयोग

लिव-52 के घटक द्रव्य

प्रत्येक लिव 52 टैबलेट शामिल हैं:

  • हिमस्रा Himsra (Capparis spinosa) 65mg
  • कासनी Kasani (Cichorium intybus) 65mg
  • मंडूर भस्म Mandura Bhasma 33mg
  • मकोय Kakamachi (Solanum nigrum) 32mg
  • अर्जुन Arjuna (Terminalia arjuna) 32mg
  • कासमर्द Kasamarda (Cassia occidentalis) 16mg
  • बरंजासिफ बरंजासिफ Biranjasipha (Achillea millefolium) 16mg
  • झावुका Jhavuka (Tamarix gallica) 16mg

प्रत्येक 5 मिलीलीटर लिव 52 सिरप की शामिल हैं:

  • हिमस्रा Himsra (Capparis spinosa) 34mg
  • कासनी Kasani (Cichorium intybus) 34mg
  • मकोय Kakamachi (Solanum nigrum) 16mg
  • अर्जुन Arjuna (Terminalia arjuna) 16mg
  • कासमर्द Kasamarda (Cassia occidentalis) 8mg
  • बरंजासिफ Biranjasipha (Achillea millefolium) 8mg
  • झावुका Jhavuka (Tamarix gallica) 8mg

Liv.52 DS Tablet and Syrup

लिव 52 DS में सभी घटक लिव 52 के ही कही केवल उनकी स्ट्रेंथ अलग है। DS को लीवर के रोगों के उपचार के लिए बनाया किया गया है।

Each Liv 52 DS tablet contains:

  • हिमस्रा Himsra (Capparis spinosa) 130mg
  • कासनी Kasani (Cichorium intybus) 130mg
  • मंडूर भस्म Mandura Bhasma 66mg
  • मकोय Kakamachi (Solanum nigrum) 64mg
  • अर्जुन Arjuna (Terminalia arjuna) 64mg
  • कासमर्द Kasamarda (Cassia occidentalis) 32mg
  • बरंजासिफ Biranjasipha (Achillea millefolium) 32mg
  • झावुका Jhavuka (Tamarix gallica) 32mg

Liv.52 drops

Liv.52 drops बच्चों के लिए है। इसके सेवन से भूख और वजन में सुधार देखा जाता है। यह बच्चों में होने वाली मतली और उल्टी में लाभप्रद है और भूख बढ़ाती है।

Each Liv 52 Drops contains:

  • हिमस्रा Himsra (Capparis spinosa) 17mg
  • कासनी Kasani (Cichorium intybus) 17mg
  • मकोय Kakamachi (Solanum nigrum) 8mg
  • अर्जुन Arjuna (Terminalia arjuna) 8mg
  • कासमर्द Kasamarda (Cassia occidentalis) 4mg
  • बरंजासिफ Biranjasipha (Achillea millefolium) 4mg
  • झावुका Jhavuka (Tamarix gallica) 4mg

Liv. 52 HB 

  1. एचबी, हेपेटाइटिस बी के प्रबंधन में प्रभावी है यह यकृत की रक्षा करती है, और एंटीवायरल antiviral है।
  2. मोथा Mustaka (Cyperus rotundus) 125mg
  3. नागरमोथा Nagaramustaka (Cyperus scariosus) 125mg

लिव-52 के फायदे

  • यह एक हर्बल दवा है जो आयुर्वेदिक सिद्धांत पर आधारित है।
  • यह यकृत के सामान्य रूप से काम करने में सहायता करती है।
  • यह शक्तिशाली लीवर प्रोटेक्टिव hepatoprotective है।
  • यह हीमोग्लोबिन के स्तर और वजन में सुधार करती है।
  • यह एंजाइम जो की बेहतर पाचन और अवशोषण के लिए ज़रूरी हैं, को विनियमित कर कर पाचन में सुधार करती है जिससे सम्पूर्ण स्वास्थ्य पर अच्छा प्रभाव पड़ता है।
  • यह भूख को सुधारती है।
  • यह यकृत की कार्यात्मक दक्षता में सुधार करती है।
  • यह यकृत के पैरेन्काइमा की रक्षा कर द्वारा यकृत की कार्यात्मक क्षमता बहाल करने में मदद करती है।
  • यह लीवर की कोशिकाओं के बनने में सहयोग करती हैं।
  • यह अल्कोहल से लीवर को होने वाले डैमेज से बचाती है।
  • प्री-सिरोटिक स्तिथि यह रोग को बढने और लीवर की क्षति को रोकती है।

लिव-52 के चिकित्सिय गुण

  • पीलिया
  • भूख न लगना low appetite / anorexia
  • कम विकास और वजन में
  • बढ़े हुए प्लीहा-यकृत
  • फैटी लीवर
  • वायरल हेपेटाइटिस, क्रोनिक हेपेटाइटिस
  • एक्यूट वायरल हेपेटाइटिस (HBAg नकारात्मक)
  • दवा या अल्कोहल प्रेरित हेपेटाइटिस
  • प्रीसिरोटिक कंडीशन
  • विकिरण और कीमोथेरेपी प्रेरित यकृत की क्षति
  • लम्बी बीमारी के दौरान सहायक

लिव-52 की मात्रा एवं खुराक

  • एक टॉनिक के रूप में एक गोली दिन में दो बार भोजन से पहले लें।
  • वायरल हेपेटाइटिस, सिरोसिस, hepatotoxicity में प्रति दिन 2-3 गोलियाँ लें।
  • Liv.52 drops की 15-20 बूँदें, दो बार रोजाना बच्चों को दी जाती है।
  • लिव 52 HB, एक कैप्सूल, दैनिक दो बार, की खुराक 6 महीने की अवधि के लिए दी जाती है।
  • लिव 52 की सटीक खुराक यकृत की स्थिति पर निर्भर करती है।
  • इसलिए अधिकतम लाभ पाने के लिए सही खुराक पता करने के लिए डॉक्टर से परामर्श की सलाह दी जाती है।

कहाँ से खरीदें? Where to Buy

इस दवा को आप Amazon से नीचे दिय गए लिंक से खरीद सकते हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *