गोमेद मणि भस्म एवं पिष्टी के फायदे एवं नुक्सान Gomed Mani Bhasma and Pishti Benefits in hindi

By | March 22, 2020

गोमेद मणि भसम एवं पिष्टी क्या है? Gomed mani bhasma and gomed mani pishti in hindi

 
Gomed Mani Bhasma and Pishti Benefits in hindi नमस्कार दोस्तों आज हम बात करेंगे गोमेद मणि भस्म एवं गोमेद मणि पिष्टी के बारे में । गोमेद मणि भस्म एवं पिष्टी एक आयुर्वेदिक दवा है, जिसका निर्माण गोमेद नामक पत्थर से किया जाता है ।
 
दोनों औषधियों के गुण, फायदे एवं उपयोग लगभग लगभग एक जैसी ही हैं । इसलिए यदि एक औषधि उपलब्ध ना हो तो दूसरी दवा को पहली औषधि के स्थान पर प्रयोग किया जा सकता है । यदि हम दोनों दवाओं का तुलनात्मक अध्ययन करें तो गोमेद मणि भस्म की तुलना में सोम्य होती है तथा कफ एवं पित्त से संबंधित रोगों में गोमेद मणि भस्म ही ज्यादा लाभदायक मानी जाती है ।
 
इन दोनों औषधियों का प्रयोगतंत्रिका तंत्र एवं स्नायु रोगों में किया जाता है । यदि हम तंत्रिका तंत्र से संबंधित विकारों की बात करें तो यह दवा मिर्गी, लखवा अर्थात पक्षाघात(पागलपन) तथा अनिद्रा जैसे रोगों में फायदा करती है । इसके अतिरिक्त यह दवाएं ह्रदय रोगों में जैसे दिल की घबराहट, धड़कन का बहुत ज्यादा बढ़ना या सीने में दर्द होना आदि में फायदा करती हैं ।
 

गोमेद मणि भसम एवं पिष्टी के घटक द्रव्य

Gomed mani bhasma and gomed mani pishti ingredients in hindi

 
गोमेद मणि भस्म एवं पिष्टी को गोमेद रतन से बनाया जाता है ।इसके पश्चात गुलाब जल या चंदन आदि अर्क से इसका शोधन किया जाता है । यदि हम गोमेद पत्थर के रसायनिक संगठन की बात करें तो तो गोमेद पत्थर का रसायनिक सूत्र Ca3Al2(SiO4) होता है । इसी पत्थर से गोमेद मणि भस्म एवं गोमेद पिष्टी को तैयार किया जाता है ।
 

गोमेद मणि भसम एवं पिष्टी के  औषधीय गुण

Gomed mani bhasma and gomed mani pishti uses in hindi

 
गोमेद मणि भस्म एवं गोमेद पिष्टी में निम्नलिखित औषधीय गुण होते हैं ।
 
      • इसकी तासीर ठंडी होती है
      • यह मानसिक तनाव को दूर करती है
      • मस्तिष्क को शक्ति पहुंचाने वाली औषधि
      • हृदय को शक्ति पहुंचाने वाली ओषधी
      • पाचक एवं उत्तेजक
      • वीर्य दोषों में लाभकारी
 

गोमेद मणि भस्म एवं पिष्टी के फायदे

Gomed mani bhasma and gomed mani pishti benefits in hindi

इस औषधि के फायदे इस औषधि के निम्नलिखित फायदे हैं ।
 
      • चिंता 
      • अवसाद
      • मिर्गी 
      • अनिंद्र या नींद का न आना 
      • स्मरण शक्ति में कमी 
      • दिमाग कि कमजोरी 
      • दिल कि घबराहट 
      • उच्च रक्त चाप 
      • थकान 
      • लाखवा(पक्षाघात)
      • बालो का झाड़ना
      • केंसर
      • बवासीर 
 

मानसिक रोगों में लाभकारी गोमेद मणि भस्म एवं गोमेद पिष्टी

Gomed mani bhasma and gomed mani pishti benefits in mental disorder in hindi

 
गोमेद मणि भस्म एवं पिष्टी सभी प्रकार के मानसिक रोगों में फायदा करती है । यह रोग इस प्रकार है । 
 
    • बहुत अधिक गुस्सा आना
    • स्वभाव में चिडचिडा पन होना 
    • आत्महत्या करने का विचार मन में आना 
    • दिल घबराना
    • बेचेनी 
    • पसीना आना 
    • अनिंद्रा कि समस्या 
 
 
अवसाद होने पर गोमेद मणि भस्म या गोमेद मणि पिष्टी को मुक्त भस्म या मुक्त पिष्टी, मुलेठी, शंखपुष्पी, जटामांसी के साथ सेवन किया जाता है । 
 
मिर्गी रोग में इस दवा को अभ्रक भस्म व् जटामांसी के साथ सेवन किया जाता है । 
 
हृदय रोगों में इस दवा को मुक्ता भस्म या मुक्त पिष्टी, अभ्रक भस्म, अर्जुन कि छल के चूर्ण, व् जटामांसी के साथ सेवन किया जाता है । 
 

मात्रा एवं सेवन विधि

Gomed mani bhasma and gomed mani pishti dosage in hindi

 
शिशु को –     5  से 10 मिलीग्राम 
बच्चे को –    30  से 60 मिलीग्राम 
व्यस्क को –  60 से 250 मिलीग्राम 
 
सेवन विधि: इस दवा को आप मलाई, शहद, मक्खन या घी के साथ सेवन कर सकते हैं । 
 

दुष्प्रभाव

Gomed mani bhasma and gomed mani pishti side effects in hindi

 
सामान्यत इस दवा के कोई दुष्प्रभाव नहीं है । 
 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *