चन्दनादि वटी के गुण उपयोग फायदे घटक और नुकसान Chandanadi Vati ke fayde or nuksan

By | June 16, 2020

चंदनादी वटी वटी क्या है ? Chandanadi Vati kya hai?

चन्दनादि वटी एक आयुर्वेदिक औषधि है जिसका कार्य मुख्य रूप से मूत्र संस्थान के रोगों को दूर करना होता है । इस औषधि का सेवन करने से मूत्र संक्रमण, पेशाब में जलन, पेशाब का बार बार आना, डाईसूरिया, मूत्र कृच्छता, सुजाक एवं मधुमेह (डायबिटीज) जैसे रोगों में फायदा होता है  । इस औषधि में श्वेत चंदन, कबाब चीनी, सफेद राल सहित अन्य जड़ी बूटियां मौजूद होती हैं, जिस कारण बहुत अधिक प्रभावशाली हो जाती है ।

चन्दनादि वटी के घटक द्रव्य Chandanadi Vati ke ghatak dravy in hindi

  • गोखरू
  • आंवला
  • चंदन
  • कपूर
  • इलायची
  • पाषाणभेद
  • कबाबचीनी

चन्दनादि वटी के फायदे Chandanadi Vati ke fayde in hindi

  1. चंदन आती वटी का सेवन करने से प्रमेह रोग, सुजाक एवं गोनोरिया जैसे रोगों में बहुत अच्छा फायदा मिलता है ।
  2. यह औषधि मूत्र संक्रमण में मुख्य औषधि के रूप में प्रयोग की जाती है ।
  3. इस औषधि का सेवन करने से पेशाब में जलन होना एवं पेशाब का रुक रुक कर आना, पेशाब करते हुए दर्द होना आदि समस्याओं में लाभ मिलता है ।
  4. यह औषधि मूत्रल है अर्थात इसका सेवन करने से मूत्र बहुत अधिक आता है ।
  5. यह औषधि मधुमेह अर्थात डायबिटीज में भी अच्छा लाभ पहुंचाती है ।
  6. यह औषधि पित्त एवं कफ को संतुलित करती है ।

मात्रा एवं सेवन विधि

एक से दो गोली भोजन से पहले दिन में दो से तीन बार । यदि परेशानी ज्यादा हो तो अधिकतम दो गोलियों से लेकर 4 गोलियां तक सेवन कराई जा सकती हैं । इस औषधि को ठंडे पानी, लस्सी, खस शरबत या चंदन शरबत के साथ सेवन करा सकते हैं ।

सावधानी एवं दुष्प्रभाव

यह औषधि रक्त में शर्करा के स्तर को कम कर सकती है, इसलिए मधुमेह के रोगियों को इस औषधि का सेवन डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही करना चाहिए । निर्धारित मात्रा एवं चिकित्सक के परामर्श के सेवन करने से इस औषधि का कोई दुष्प्रभाव नहीं देखा गया है ।

Recommended product for you based on customer ratings:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *