बलारिष्ट आयुर्वेदिक सिरप के गुण उपयोग फायदे एवं नुक्सान Balarishtam Syrup uses and benefits in hindi

By | April 30, 2020

बलारिष्ट आयुर्वेदिक सिरप क्या है? Balarishtam benefits in hindi

बलारिष्ट सिरप (Balarishtam Syrup) एक आयुर्वेदिक एवं हर्बल ओषधि है जो अनेक प्रकार के वायु संबंधी रोगों में प्रयोग की जाती है । बलारिष्ट बाजार में Kottakkal, Baidyanath, Dabur, Divya Patanjali जैसी कंपनियों के द्वारा बनाई जाती है तथा यह ओषधि लिक्विड के रूप में उपलब्ध है ।

  • दवा का नाम: बलारिष्ट Balarishtam
  • उपलब्धता: यह ऑनलाइन और दुकानों में उपलब्ध है।
  • दवाई का प्रकार: हर्बल आयुर्वेदिक आसव-अरिष्ट
  • मुख्य उपयोग: वायु रोग, हड्डियों का बुखार
  • गर्भावस्था में प्रयोग:  डॉक्टर की सलाह से
  • निर्माता: Kottakkal, Baidyanath

इस दवा का सेवन करने से वायु रोगों जैसे जोड़ों का दर्द, लख्वा, फालिस, अधरंग आदि में लाभ मिलता है  । इसके अतिरिक्त इस औषधि का सेवन करने से हड्डियों के पुराने बुखार में भी बहुत अधिक लाभ मिलता है ।

जैसा कि इस औषधि के नाम से ही पता चलता है कि इस दवा में बला नामक जड़ी-बूटी को मुख्य जड़ी बूटी के रूप में प्रयोग किया गया है । यह दवा वात दोष नाशक होती है तथा शरीर को बल प्रदान करती है । इसके अतिरिक्त इस दवा में अश्वगंधा, शतावरी, रसना, लोंग, गोखरू एवं पुराना गुड़ भी प्रयोग किया जाता है ।

कोटक्कल बलारिष्ट आयुर्वेदिक सिरप Kottakkal Balarishtam Ayurvedic Syrup

बलारिष्ट का वर्णन आयुर्वेद में अनेकों ऋषि-मुनियों ने किया है । ऋषि मुनियों के अनुसार बलारिष्ट एक उत्तम रसायन है जो त्रिदोष नाशक है अर्थात इस दवा का सेवन करने से वात, पित्त एवं कफ तीनों दोषों का नाश होता है 

चरक ऋषि ने इस औषधि को बलवर्धक कहा है, क्योंकि यदि शरीर को नई ऊर्जा एवं ताकत प्रदान करती है । यह दवा बहुत ही अच्छी एंटी ऑक्सीडेंट है, इसीलिए यह त्वचा रोगों में भी अपना सकारात्मक प्रभाव दिखाती है ।

यह दवा व्यक्ति की मांसपेशियों को मजबूत करती है जिससे शरीर हष्ट पुष्ट एवं मजबूत दिखाई देने लगता है । यही कारण है कि इस औषधि को बलारिष्ट अर्थात बल प्रदान करने वाली औषधि कहा जाता है । यह दवा दक्षिण भारत कि प्रसिद्द कम्पनी कोटक्कल (Kottakkal) के द्वारा निर्मित की जाती है ।

बलारिष्ट के घटक द्रव्य

Balarishtam Syrup ingredients

जड़ीबूटी भाग मात्र
बला Root 4.8 kg
अश्वगंधा Root 4.8 kg
पानी 49.152 liter reduced to 12.288 liter
गुड़ 14.4 kg  
धातकी Flower 768 g
प्रक्षेप द्रव्य    
क्षीरकाकोली Sub. Root 96 g
अरंड Root 96 g
रसना Leaf.*/Root 48 g
छोटी इलाइची Sd. 48 g
प्रसारनी Plant 48 g
लौंग Flower Bud 48 g
उशीर Root 48 g
गोखरू Fruit 48 g

बलारिष्ट बनाने की विधि How to prepare Balarishtam

बलारिश्ट बनाने के लिए सबसे पहले बला एवं अश्वगंधा का काड़ा बनाते हैं । इसके पश्चात इस काढ़े में गुड एवं बाकी औषधियों को कूटकर डाल देते हैं । यह द्रव्य लगभग 1 महीने तक वायु रोधी पात्र में भरकर रख देते हैं । 1 महीने के पश्चात इसको छानकर कांच की शीशी में भरकर रख लेते हैं । इस ओषधि को ही बलारिष्ठ कहा जाता है । वरिष्ठ बाजार में बना बनाया मिल जाता है ।

बलारिष्ट के गुण Balarishtam benefits in hindi

  • इसके सेवन से सूजन कम होती है ।
  • यह मूत्रल है अर्थात इसके सेवन से मूत्र ज्यादा आता है ।
  • यह एक टोनिक की भाँती प्रोयोग किया जाता है ।
  • वायु रोगों में लाभकारी ।
  • यह पाचक एवं दीपक है ।
  • यह सप्त धातुओं को पुष्ट करके शरीर बलिष्ट बनता है ।

बलारिष्ट के फायदे Balarishtam uses in hindi

  • बलारिष्ट एक बलवर्धक आयुर्वेदिक टॉनिक है जिसका सेवन करने से शरीर को नई ऊर्जा और ताकत मिलती है ।
  • इस टॉनिक का सेवन करने से पुराने बुखार एवं वात रोगों के कारण आई हुई कमजोरी दूर होती है ।
  • यह ओषधि अर्थराइटिस, रूमेटिज्म, जोड़ों का दर्द, लकवा, फालिस एवं अधरंग में सफलतापूर्वक प्रयोग की जाती है ।
  • इसके अतिरिक्त इस औषधि का सेवन करने से शारीरिक सूजन कम होती है ।
  • यह एक मूत्र वर्धक औषधि है अर्थात इस औषधि का सेवन करने से मूत्र बहुत ज्यादा आता है ।
  • इस औषधि का पाचन संस्थान पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है ।
  • यह दवा जीवनी शक्ति को बढ़ाती हैं एवं धातु को पुष्ट करती है ।

सेवन विधि एवं मात्रा

औषधीय मात्रा (Dosage)

वयस्क 12 मिलीलीटर से 24 मिलीलीटर
बच्चे (10 वर्ष से कम)  6 मिलीलीटर से 12 मिलीलीटर

सेवन विधि (Directions)

दवा लेने का उचित समय (कब लें?) खाना खाने के तुरंत बाद लें
दिन में कितनी बार लें? दो या तीन बार
अनुपान (किस के साथ लें?) समान मात्रा में पानी के साथ
उपचार की अवधि (कितने समय तक लें) चिकित्सक की सलाह लें

वायु रोगों में बलारिष्ट को महायोगराज गुग्गुल, रासनादी गूगल, महारास्नादि क्वाथ एवं वृहद वात चिंतामणि रस जैसी दवाओं के साथ सेवन करने से बहुत उत्तम लाभ मिलता है । अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *