अश्वगंधा चूर्ण के गुण उपयोग और फायदे Ashwagandha Churna ke fayde or nuksaan

By | June 2, 2020

अश्वगंधा चूर्ण क्या है? Ashwagandha Churna kya hai?

अश्वगंधा चूर्ण एक आयुर्वेदिक औषधि है जो अश्वगंधा नामक जड़ी-बूटी से बनाई जाती है । यह औषधि आयुर्वेद में सर्वश्रेष्ठ औषधियों में से एक मानी जाती है तथा इस औषधि का सेवन करने से बल, बुद्धि एवं वीर्य की वृद्धि होती है । यह औषधि अनेकों रोगों को दूर कर व्यक्ति को नवजीवन प्रदान करती है ।

अश्वगंधा चूर्ण का मुख्य घटक अश्वगंधा नामक पौधे का तना होता है । अश्वगंधा पौधे के तने को धोकर, सुखाकर तत्पश्चात कूट पीसकर अश्वगंधा पाउडर तैयार किया जाता है । इस औषधि को अश्वगंधा इसलिए कहा जाता है क्योंकि इसमें से घोड़े के मूत्र जैसी गंध आती है । घोड़े को संस्कृत में अश्व कहा जाता है, इसलिए इस औषधि का नाम अश्वगंधा रखा गया है ।

अश्वगंधा चूर्ण के आयुर्वेदिक गुण एवं कर्म

  • रस (taste on tongue): काषाय, तिक्त
  • गुण (Pharmacological Action): लघु
  • वीर्य (Potency): उष्ण
  • विपाक (transformed state after digestion): मधुर
  • कर्म: रसायन, वात-कफ कम करने वाली (कम मात्रा में लेने पर), बल्य, वाजीकारक, वीर्य वर्धक।

अश्वगंधा चूर्ण के फायदे Ashwagandha Churna ke fayde

डायबिटीज में लाभकारी अश्वगंधा चूर्ण Ashwagandha Churna for diabetes

अश्वगंधा चूर्ण का सेवन करने से शरीर में से ब्लड शुगर की मात्रा कम होती है । इस औषधि का इस्तेमाल करने पर रक्त में इंसुलिन की मात्रा बढ़ जाती है जिससे डायबिटीज के रोगियों को आराम मिलता है ।

तनाव कम करने में लाभदायक अश्वगंधा चूर्ण Ashwagandha Churna for hypertension

अश्वगंधा चूर्ण मस्तिष्क रोगों जैसे मानसिक तनाव एवं अवसाद को दूर करने के लिए एक सुप्रसिद्ध ओषधि है । मस्तिष्क को शक्ति देने के लिए एवं मानसिक रोगों से छुटकारा पाने के लिए प्राचीन काल से ही अश्वगंधा चूर्ण का प्रयोग किया जाता रहा है ।

मानसिक तनाव एवं अवसाद का मुख्य कारण हमारे शरीर में बनने वाला कोर्टिसोल नाम का हार्मोन होता है । जब यह हार्मोन हमारे शरीर में अधिक मात्रा में बनने लगता है तो व्यक्ति तनाव ग्रस्त होने लगता है । इतना ही नहीं इस हार्मोन के बढ़ने पर रक्त में शुगर की मात्रा भी बढ़ जाती है ।

यही कारण है कि डायबिटीज का एक मुख्य कारण बहुत ज्यादा तनाव में रहना भी माना जाता है । वैज्ञानिक शोधों के आधार पर यह निष्कर्ष निकला है कि अश्वगंधा चूर्ण का सेवन करने से जहां एक और मानसिक तनाव एवं अवसाद दूर होता है वही इस तनाव के कारण पैदा होने वाले डायबिटीज में भी आराम मिलता है ।

कोलेस्ट्रोल एवं ट्राइग्लिसराइड को सही रखने में लाभदायक अश्वगंधा चूर्ण Ashwagandha Churna for cholesterol and triglycerides

अश्वगंधा चूर्ण का नियमित सेवन करने से कोलेस्ट्रोल एवं ट्राइग्लिसराइड का स्तर सामान्य बना रहता है और हम आपको बता दें कि कोलस्ट्रोल एवं ट्राइग्लिसराइड ऐसे पदार्थ हैं जो हमारे हार्ट के स्वास्थ्य के प्रति जिम्मेदार होते हैं ।

जिन लोगों के शरीर में कोलेस्ट्रोल एवं ट्राइग्लिसराइड का स्तर ज्यादा हो जाता है उन्हें हार्ट प्रॉब्लम हो जाती हैं । अश्वगंधा का सेवन करने से यह कोलेस्ट्रोल एवं ट्राइग्लिसराइड को घटाता है एवं रक्त में मौजूद फैट को भी कम करता है ।

वैज्ञानिक शोधों में यह पाया गया है कि जो लोग अश्वगंधा पाउडर का नियमित सेवन करते हैं उनका कोलेस्ट्रोल 55% तक एवं ट्राइग्लिसराइड 45% तक घट गया ।

मस्तिष्क रोगों एवं याददाश्त बढ़ाने में लाभकारी अश्वगंधा चूर्ण Ashwagandha Churna for brain problems

अश्वगंधा चूर्ण मस्तिष्क रोगों जैसे बार-बार बातों को भूल जाना, अनिद्रा, स्मृति भ्रम एवं याददाश्त की कमी में प्रयोग की जाने वाली एक सुप्रसिद्ध औषधि है । जो लोग प्रतिदिन 500 मिलीग्राम से 2 ग्राम अश्वगंधा पाउडर का सेवन करते हैं उनके दिमाग में स्थिरता आती है एवं अन्य मानसिक रोगों में भी लाभ मिलता है । यह औषधि दिमाग को तेज करने एवं याददाश्त बढ़ाने के लिए प्रयोग की जाती है ।

मांसपेशियों को सुदृढ़ करने में लाभदायक अश्वगंधा पाउडर Ashwagandha Churna for muscles in hindi

अश्वगंधा पाउडर का सेवन करने से जहां बुद्धि एवं वीर्य की वृद्धि होती है वहीं दूसरी ओर यह मांसपेशियों को भी सुदृढ़ करती है । जो लोग शारीरिक व्यायाम करते हैं वह अश्वगंधा पाउडर को एक टॉनिक के रूप में प्रयोग कर सकते हैं । इससे आपकी मांसपेशियां तो मजबूत होंगी ही साथ ही अन्य रोगों से भी बचे रहेंगे ।

टेस्टोस्टरॉन बढ़ाने में लाभदायक अश्वगंधा चूर्ण Ashwagandha Churna for testosterone in hindi

अश्वगंधा चूर्ण पुरुषों में टेस्टोस्टरॉन के स्तर को बढ़ाने में मददगार होती है । टेस्टोस्टरॉन एक पुरुष हार्मोन होता है जो पुरुषों की मर्दानगी की ओर इशारा करता है । जब बच्चे किशोरावस्था में प्रवेश करते हैं तो उनके शरीर में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन बनना शुरू हो जाता है जो यह दर्शाता है कि अब बच्चा जवान हो गया है तथा वह संतान उत्पत्ति भी कर सकता है ।

जिन पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन का स्तर सामान्य से कम होता है वे नपुंसकता का शिकार हो सकते हैं । अश्वगंधा चूर्ण टेस्टोस्टेरोन के स्तर को संतुलित करता है एवं व्यक्ति को मर्द बनाता है।

कैंसर से लड़ने में लाभकारी अश्वगंधा चूर्ण Ashwagandha Churna for cancer in hindi

अश्वगंधा चूर्ण की जितनी तारीफ की जाए उतनी ही कम है । इस चूर्ण में व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने की सामर्थ्य होती है । इस चूर्ण का सेवन करने से व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक शक्ति इम्यूनिटी पावर इतनी मजबूत हो जाती है कि वह कैंसर जैसी बीमारी से भी लड़ सकता है । इस चूर्ण का सेवन करने से कैंसर के सेल्स (कोशिकाएं) बननी रुक जाती है, जिससे व्यक्ति कैंसर से लड़ने में सक्षम हो जाता है ।

अनिंद्रा मैं लाभकारी अश्वगंधा चूर्ण

Ashwagandha Churna for insomnia in hindi

प्रयोगों के आधार पर सिद्ध हुआ है कि अश्वगंधा चूर्ण का सेवन करने से अनिद्रा की समस्या मे लाभ मिलता है  ।जापान में सन 2017 में एक अनुसंधान हुआ, जिसमें यह पाया गया कि अश्वगंधा का सेवन करने से नींद लाने वाले हार्मोन सक्रिय हो जाते हैं, जिससे अनिद्रा की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है ।

एनीमिया में लाभकारी अश्वगंधा चूर्ण Ashwagandha Churna for anemia in hindi

अश्वगंधा चूर्ण एनीमिया अर्थात रक्ताल्पता की समस्या को दूर करने में मददगार होता है । इस चूर्ण का सेवन करने से खून में आरबीसी एवं डब्ल्यूबीसी की मात्रा बढ़ जाती है जिससे हिमोग्लोबिन का स्तर बढ़ जाता है एवं व्यक्ति एनीमिया जैसी बीमारी को हरा देता है । अश्वगंधा चूर्ण वास्तव में कोई औषधि नहीं है बल्कि यह एक शक्तिवर्धक रसायन एवं टॉनिक है जिसे सामान्य एवं निरोगी व्यक्ति भी सेवन कर सकते हैं ।

आंखों की बीमारियों में लाभदायक अश्वगंधा चूर्ण Ashwagandha Churna for eye problems in hindi

भारत में हैदराबाद राज्य में कुछ वर्ष पहले एक अनुसंधान हुआ था, जिसमें यह पाया गया की अश्वगंधा चूर्ण में एंटीऑक्सीडेंट गुण मौजूद होते हैं । जिस कारण यह चूर्ण नेत्र ज्योति बढ़ाता है एवं नेत्र से संबंधित बीमारियों को दूर करने में मददगार होता है । विज्ञानिक अनुसंधान में यह भी पाया गया  कि अश्वगंधा चूर्ण में ऐसे गुण होते हैं जो मोतियाबिंद जैसी भयंकर बीमारी को भी दूर करने में मददगार होते हैं ।

संक्रमण दूर करने में लाभकारी अश्वगंधा पाउडर Ashwagandha Churna for infections in hindi

अश्वगंधा पाउडर में एंटीबैक्टीरियल एवं एंटीवायरल गुण होते हैं जिस कारण यह व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक शक्ति (इम्यूनिटी पावर) बहुत ज्यादा बढ़ा देती है।। यही कारण है कि इस पाउडर का सेवन करने से व्यक्ति को छोटे-मोटे संक्रामक रोगों में लाभ मिलता है तथा सर्दी, जुखाम, खांसी जैसे संक्रामक रोग व्यक्ति को नहीं घेरते हैं ।

हालांकि अश्वगंधा चूर्ण अश्वगंधा पौधे की जड़ों से बनाया जाता है,  लेकिन प्रयोग के आधार पर यह भी पाया गया की अश्वगंधा की पत्तियां भी संक्रमण को दूर कर सकते हैं । भारत के अलीगढ़ में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में कुछ वर्ष पूर्व इस प्रकार के शोध हुए थे जिनमें यह सब बातें सामने आई थी ।

गठिया में लाभकारी अश्वगंधा चूर्ण Ashwagandha Churna for arthritis in hindi

अश्वगंधा में एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं । अश्वगंधा चूर्ण का सेवन करने से शरीर में मौजूद यूरिक एसिड की मात्रा कम होती है । 2014 में वैज्ञानिक अनुसंधान हुए जिनमें पाया गया अश्वगंधा का सेवन करने से गठिया जैसे रोगों में काफी लाभ मिलता है, इसलिए गठिया रोग में अश्वगंधा पाउडर को सहायक औषधि के रूप में सेवन कराया जा सकता है ।

अल्जाइमर रोग में लाभकारी अश्वगंधा चूर्ण  Ashwagandha Churna for alzheimer in hindi

अश्वगंधा चूर्ण में अल्जाइमर रोग ठीक करने के गुण मौजूद होते हैं । सन 2011 में स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन में वैज्ञानिक अनुसंधान किए गए जिनमें यह पाया गया कि यदि अश्वगंधा जड़ों से अच्छी क्वालिटी का अश्वगंधा चूर्ण बनाया जाए एवं अल्जाइमर के रोगियों को इसका सेवन कराया जाए तो इससे काफी हद तक लाभ मिलता है ।

बढ़ती उम्र के लक्षणों को दूर करें अश्वगंधा चूर्ण Ashwagandha Churna for ageing in hindi

जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती जाती है वैसे वैसे ही आपके शरीर में बहुत से परिवर्तन होते हैं । 35 से 40 साल के बाद शरीर में कमजोरी आ जाती है, चेहरे पर झुरिया आ जाती हैं एवं आप अपने आप को एनर्जेटिक महसूस नहीं करते हैं ।

इन सभी लक्षणों में अश्वगंधा चूर्ण एक शक्तिवर्धक टॉनिक की तरह काम करती हैं । अश्वगंधा पाउडर जीवनी शक्ति को बढ़ाती है । अश्वगंधा चूर्ण को भारतीय जिनसेंग भी कहा जाता है, क्योंकि यह हमारी इम्यूनिटी पावर तो बढ़ाती ही है साथ ही बढ़ती उम्र के साथ शरीर में होने वाले परिवर्तनों को भी दूर करने में मददगार होती हैं ।

अश्वगंधा चूर्ण में एंटी एजिंग गुण मौजूद होते हैं । अश्वगंधा चूर्ण को गुलाब जल में मिलाकर इसका पेस्ट बना लें तथा 15 से 20 मिनट के लिए अपने चेहरे पर फेस मास्क की तरह इसको लगा सकते हैं । इसके पश्चात अपना चेहरा धो लें, यह झुर्रियों को दूर करने में मददगार होता है ।

कोर्टिसोल के स्तर को घटाने में लाभदायक अश्वगंधा चूर्ण Ashwagandha Churna for cortisol in hindi

यदि आपका दैनिक जीवन इस प्रकार का है कि आप प्रतिदिन तनावग्रस्त रहते हैं तो इससे आपके शरीर में कोर्टिसोल का स्तर बढ़ सकता है । कोर्टिसोल एक प्रकार का हार्मोन होता है जो व्यक्ति के तनावग्रस्त होने पर ही पैदा होता है ।

कोर्टिसोल आपके शरीर के लिए बिल्कुल भी अच्छा नहीं है तथा यह जहां आपके मस्तिष्क को प्रभावित करता है वहीं दूसरी ओर यह आपकी त्वचा को भी नुकसान पहुंचा सकता है । खासकर की इसका सीधा असर आपके चेहरे पर पड़ता है ।

आपने देखा होगा जो लोग बहुत ज्यादा तनावग्रस्त रहते हैं उनके चेहरे पर झुरिया पड़ जाती हैं और उनका चेहरा देखकर ही पता चल जाता है कि यह व्यक्ति बहुत ज्यादा तनावग्रस्त है । यह वास्तव में कॉर्टिसोल के बढ़ जाने के कारण होता है ।

इसलिए सबसे पहले तो आप अपने शरीर में कोर्टिसोल का बढ़ने ही ना दें इसके लिए आप प्रसन्न रहें एवं प्रयास करें कि आप तनावमुक्त रहें । लेकिन कभी-कभी यह हमारे हाथ में नहीं होता है ।

यदि आप तनाव में आ जाते हैं तो ऐसे में आप अश्वगंधा चूर्ण को टॉनिक की तरह इस्तेमाल करें, यह कोर्टिसोल के स्तर को नियंत्रित रखता है एवं आपकी त्वचा को सुंदर और जवान बनाने में आपकी मदद करता है ।

त्वचा को निखारने में मददगार अश्वगंधा चूर्ण Ashwagandha Churna for skin problems in hindi

अश्वगंधा चूर्ण आपकी त्वचा को सुंदर और जवान बनाने में मददगार होता है । यह आपकी सुंदर त्वचा को लगातार जवान बनाए रखता है और उसे निखरता है । इसका कारण यह है की अश्वगंधा चूर्ण में ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो आपके शरीर में एस्ट्रोजन के स्तर को बढ़ा देते हैं । एस्ट्रोजन एक प्रकार का हार्मोन है जो त्वचा को सुंदर और जवान बनाए रखने में मददगार होता है ।

बालों को असमय सफेद होने से बचाए अश्वगंधा चूर्ण Ashwagandha Churna for hair problems in hindi

अश्वगंधा चूर्ण बालों को समय से पहले सफेद होने से बचाता है । इसका मुख्य कारण यह है कि अश्वगंधा चूर्ण का सेवन करने से आपके शरीर में मेलेनिन नामक हार्मोन बनता है जो बालों को काला और चमकदार बनाए रखने के प्रति जिम्मेदार होता है । इसलिए जो लोग अश्वगंधा चूर्ण का सेवन करते हैं उनके बाल काले और चमकदार दिखाई देते हैं ।

तो दोस्तों इस प्रकार आपने देखा अश्वगंधा चूर्ण के कितने सारे फायदे हैं । वास्तव में यह चूर्ण आयुर्वेद का एक वरदान है । इसे आप एक दवाई मत समझिए बल्कि इसे आप शक्तिवर्धक रसायन एवं टॉनिक समझिए, जो बल बुद्धि वीर्य एवं जीवनी शक्ति की वृद्धि करता है । बढ़ती हुई उम्र में यह आपको एक प्रोटेक्शन देता है और आपको नए जोश और जवानी से भर देता है ।

मात्रा एवं सेवन विधि Dosage & Directions

  • अश्वगंधा चूर्ण को आप प्रतिदिन 4 से 5 ग्राम गाय के दूध के साथ सुबह शाम सेवन करें ।
  • गठिया बाई एवं अन्य वायु विकारों में 2 भाग अश्वगंधा चूर्ण एक भाग सोंठ चूर्ण एवं तीन भाग मिश्री चूर्ण मिलाकर, सुबह-शाम गर्म पानी के साथ सेवन करने से लाभ मिलता है ।
  • अनिद्रा अर्थात नींद ना आना की समस्या में अश्वगंधा चूर्ण का क्षीर पाक बनाकर सेवन करें ।
  • कमजोरी एवं निर्बलता में 5 ग्राम अश्वगंधा चूर्ण को 5 ग्राम मिश्री मिलाकर दूध के साथ सेवन करें या 100 ग्राम अश्वगंधा चूर्ण में 20 ग्राम देसी घी मिलाएं तथा सुबह शाम पांच पांच ग्राम दूध के साथ सेवन करें ।
  • महिलाओं के लिकोरिया में 2 ग्राम अश्वगंधा चूर्ण को आधा ग्राम वंशलोचन के साथ मिलाकर सेवन कर सकते हैं ।

सावधानियां एवं दुष्प्रभाव Precautions & Side Effects

  • अश्वगंधा चूर्ण को अधिक मात्रा में कभी भी सेवन नहीं करना चाहिए ।
  • इस औषधि की एक समय में जितनी मात्रा निर्धारित की गई हो उतनी ही मात्रा का सेवन करना चाहिए ।
  • अधिक मात्रा में सेवन करने से आप की किडनी में जख्म हो सकते हैं ।
  • अधिक मात्रा में लेने पर आपको डायरिया एवं पेट दर्द की समस्या भी हो सकती है ।
  • गर्भवती महिलाओं एवं छोटे बच्चों को इस चूर्ण का सेवन नहीं करना चाहिए ।
  • यदि आप किसी भी अन्य प्रकार की कोई औषधि ले रहे हैं तो अश्वगंधा चूर्ण का सेवन ना करें ।
  • यह औषधि आपका वजन भी बढ़ा सकती है,  इसलिए आपका वजन ना बढ़े इसके लिए किसी आयुर्वेद विशेषज्ञ से सलाह लेकर ही इसका सेवन करें ।
  • इस औषधि की अधिक मात्रा का सेवन करने से रक्तचाप में गिरावट आ सकती है ।

यह लेख आपको कैसा लगा, अपने सुझाव हमे कमेन्ट के माध्यम से जरुर बताये ।

Recommended Product for you based on product comparisons and customers reviews:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *