अमर सुन्दरी वटी के फायदे गुण उपयोग और नुकसान Amar Sundari vati ke fyade or nuksan

By | July 5, 2020

अमर सुन्दरी वटी क्या है? Amar Sundari Vati kya hai

अमर सुन्दरी वटी एक आयुर्वेदिक औषधि है जो मुख्य रूप से वात एवं कफ रोगों दूर करने के लिए प्रयोग की जाती है । इस औषधि का सेवन करने से वात एवं कफ से उत्पन्न हुई समस्याएं, बुखार, शरीर में होने वाली जकड़न आम दोष इत्यादि का नाश होता है ।

इसके अलावा यह औषधि खांसी, सांस की बीमारियों, बवासीर, नेत्र रोग, मुख एवं कंठ के रोग आदि विकारों में प्रयोग की जाती है । अमर सुंदरी रस में जो जड़ी बूटियां मौजूद होती हैं उनमें पाचक एवं उद्दीपक गुण मौजूद होते हैं, जिससे यह औषधि पाचन संस्थान की समस्याओं में बहुत अच्छा लाभ पहुंचाती है । यह औषधि 80 प्रकार के वात रोगों में तो लाभ पहुंचाती है, साथ ही यह उन्माद एवं सन्निपात को भी दूर करती है ।

अमर सुन्दरी वटी के घटक द्रव्य Amar Sundari Vati ke ghatak dravy

12 grams शुद्ध पारद, शुद्ध गंधक, शुंठी, पिप्पली, मारीच, आमलकी, हरीतकी, बिभीतकी, रेणुका, पिप्पलीमूल, चित्रक, त्वक, तमालपत्र, नागकेशर, इला, अकारकरभ, विडंग, मुस्ता, शुद्ध वत्सनाभ, लौह भस्म 480 grams गुड़।

अमर सुन्दरी वटी के चिकित्सकीय उपयोग Amar Sundari Vati ke upyog in hindi

अमर सुन्दरी वटी को निम्न रोगों के उपचार में सफलतापूर्वक प्रयोग किया जाता है ।

  1. पैरालाइसिस
  2. पक्षाघात
  3. उन्माद एवं मिर्गी
  4. श्वास रोग
  5. वात रोग
  6. कफ रोग
  7. सन्निपात
  8. बवासीर
  9. पाचन तंत्र की समस्याएं

अमर सुन्दरी वटी के फायदे Amar Sundari Vati ke fayde in hindi

  • यह औषधि 80 प्रकार के वात रोगों को दूर करती है ।
  • यह कफ दोष नाशक है एवं पित्त को भी संतुलित रखती है ।
  • यह सन्निपात रोग को दूर करती है ।
  • यह पक्षाघात एवं लकवा जैसी बीमारियों में लाभ पहुंचाती है ।
  • यह मोतीझरा रोग में फायदा पहुंचाती है ।

अमर सुन्दरी वटी की सेवन विधि एवं मात्रा

इस औषधि की एक से दो गोली दिन में दो बार गर्म पानी के साथ ले सकते हैं । अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें ।

सावधानियां एवं दुष्प्रभाव

निर्धारित मात्रा में चिकित्सक के परामर्श अनुसार सेवन करने पर इस औषधि का कोई दुष्प्रभाव नहीं देखा गया है ।

Recommended products for you bases on price:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *