अग्नि संदीपन रस के फायदे गुण उपयोग एवं नुकसान Agnisandipan Ras ke fayde or nuksan

By | July 4, 2020

अग्नि संदीपन रस क्या है? Agnisandipan Ras kya hai

अग्नि संदीपन रस एक आयुर्वेदिक औषधि है जो मुख्य रूप से पाचन तंत्र की समस्याओं जैसे पेट में दर्द, मंदाग्नि, अजीर्ण, हाइपर एसिडिटी, पेट में सूजन एवं भारीपन इत्यादि में लाभदायक होती है ।

इस औषधि में शुद्ध पारद एवं शुद्ध गंधक के अतिरिक्त कुछ अन्य जड़ी बूटियां जैसे पिपली, पिपली मूल, चित्रक मूल, सेंधा नमक, समुद्र नमक, जायफल, जावित्री, दालचीनी, तेजपत्ता, इलायची, हरीतकी एवं कुछ अन्य भस्म मौजूद होती हैं, जिस कारण यह औषधि पाचन तंत्र पर सकारात्मक प्रभाव डालती है ।

अग्नि संदीपन रस के घटक द्रव्य Agnisandipan Ras ke ghatak dravy

शुद्ध (purified) पारद 12 grams, शुद्ध गंधक 12 grams

12 grams each पिप्पली, पिप्पलीमूल, चव्य, चित्रक -मूल, चित्रक-त्वक, शुंठी, मरीचा, पांच -लवण /फाइव साल्ट्स (सैंधव लवण, समुद्र लवण, बीड लवण, सौरविचल लवण, लवण 12 grams each), यव -क्षार, सज्जी -क्षार, शुद्ध टंकण, सफ़ेद जीरक, कृष्ण -जीरक, अजवाइन, वाचा, सौंफ, शुद्ध हिंगू, जातिफल, कुटकी, जातिपत्र जावित्री, दालचीनी, तेजपत्ता, इलाइची, लवंग, हरीतकी फल, अम्लिका क्षार, अपामार्ग क्षार, शुद्ध वत्सनाभ, लौह भस्म, वंग भस्म, अभ्रक भस्म;

अम्लवेतस 24 grams and शंख भस्म 48 grams;

भावना -द्रव्य : पंचकोल, चित्रक स्वरस,अपामार्ग स्वरस, जम्बीरी निम्बू जूस।

अग्नि संदीपन रस के चिकित्सकीय उपयोग Agnisandipan Ras ke upyog in hindi

अग्नि संदीपन रस को निम्न रोगों के उपचार में सफलतापूर्वक प्रयोग किया जाता है ।

  1. मंदाग्नि
  2. अजीर्ण
  3. अपच
  4. जी मिचलाना एवं उल्टी होना
  5. पेट में दर्द
  6. पेट का फूलना
  7. पेट गैस
  8. पाचन तंत्र की अन्य समस्याएं

अग्नि संदीपन रस के फायदे Agnisandipan Ras ke fayde in hindi

  1. अग्नि संदीपन रस पाचन तंत्र की समस्याओं के लिए एक रामबाण औषधि है ।
  2. यह औषधि जठराग्नि को प्रदीपत करती है तथा भोजन को हजम होने में सहायता करती है ।
  3. अधिक भोजन खा लेने या गरिष्ठ भोजन करने से होने वाली बेचैनी एवं पेट के भारीपन में यह औषधि लाभदायक होती है ।
  4. जिन लोगों के मुंह में खट्टा पानी आता हो या हाइपर एसिडिटी की समस्या हो उसमें यह औषधि लाभ पहुंचाती है ।

अग्नि संदीपन रस की मात्रा एवं सेवन विधि

इस औषधि की एक से दो गोलियां दिन में दो बार साधारण पानी के साथ ले सकते हैं । हाइपर एसिडिटी की समस्या में दिन में तीन बार गर्म पानी के साथ एक एक गोली दी जा सकती है । यदि हाइपरएसिडिटी बहुत पुरानी हो तो इस औषधि को अजवाइन अर्क या सौंफ अर्क के साथ दिया जा सकता है ।

सावधानियां एवं दुष्परिणाम

निर्धारित मात्रा में एवं चिकित्सक के परामर्श अनुसार सेवन करने पर इस औषधि का कोई दुष्परिणाम नहीं होता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *