अभयारिष्ट सिरप के गुण फायदे उपयोग एवं नुक्सान Abhayarishta Syrup uses and benefits in hindi

By | April 27, 2020

अभयारिष्ट सिरप क्या है? Abhayarishta Syrup in hindi 

 
अभयारिष्ट सिरप (Abhayarishta Syrup) एक आयुर्वेदिक एवं हर्बल औषधि है जिसे हम आयुर्वेदिक टॉनिक के रूप में सेवन करते हैं । अभयारिष्ट का उपयोग पेट की समस्याओं जैसे पेट गैस, कब्ज, पेट का फूलना एवं बवासीर आदि में किया जाता है ।

यदि हम अभयारिष्ट के नाम की बात करें तो इसके नाम को अभ्या एवं अरिष्ट दो भागों में विभाजित किया जा सकता है । अभया का अर्थ होता है हरड़ अर्थात ऐसी औषधि जिसमें हरड़ के गुण मौजूद हो, अभयारिष्ट कहलाती हैं ।

जैसा कि आप जानते हैं हरड़ पेट की समस्याओं में बहुत अच्छा कार्य करती है, यही कारण है कि अभयारिष्ट को पेट से संबंधित बीमारियों में एक टॉनिक के रूप में इस्तेमाल किया जाता है ।


आपकी सुविधा के लिए हमने नीचे अभयारिष्ट सिरप को मंगाने का Online Link दिया है । इस लिंक से इस Medicine को खरीदने पर आपको 15% तक का discount मिलेगा तथा Free Delivery की सुविधा भी मिलेगी । इस प्रकार इस दवा को आप घर बेठे बेठे मार्किट से भी कम price पर मंगा सकते हैं, वो भी बिना किसी extra charge के । इस दवा को आर्डर करने के लिए नीचे दिए गए लिंक से अभी Order दें ।
Product Link: Baidyanath Abhayarist Tonic 450 ml

अभयारिष्ट सिरप के घटक द्रव्य Abhayarishta Syrup Ingredients in hindi

✦ हरड़ – आधा किलो
✦ मुनक्का – 250 ग्राम
✦ वायविडंग – 50 ग्राम
✦ महुए के फूल – 50 ग्राम
✦ गुड़ – आधा किलो
✦ गोखरु – 10 ग्राम
✦ निसोत – 10 ग्राम
✦ धनिया – 10 ग्राम
✦ धाय के फूल – 10 ग्राम
✦ इन्द्रायण की जड़ – 10 ग्राम
✦ चव्य – 10 ग्राम
✦ सोंठ – 10 ग्राम
✦ सौंफ – 10 ग्राम
✦ दन्तीमूल – 10 ग्राम
✦ मोचरस -10 ग्राम

अभयारिष्ट सिरप बनाने की विधि How to prepare Abhayarishta Syrup in hindi

सबसे पहले हरड़, मुनक्का, वायविडांग एवं महुवे को मोटा मोटा कूट लें तथा 5 लीटर पानी में डालकर इसका काढ़ा बना लें । जब पानी सवा लीटर रह जाए तब इस काढ़े को उतारकर रख लें तथा ठंडा होने तक इंतजार करें । इसके पश्चात इस काढ़े में गुड, गोखरू एवं अन्य द्रव्यों को कूटकर डाल दें तथा इस मिश्रण को किसी कांच के जार में ढक कर रख दें । 1 महीने बाद इस मिश्रण को कांच की बोतलों में भरकर रख लें । अभयारिष्ट बनकर तैयार है ।

पाचन सही करने में लाभदायक अभयारिष्ट सिरप Abhayarishta benefits in digestion in hindi

अभयारिष्ट पेट की तमाम बीमारियों की दवा है  ।अभयारिष्ट का सेवन करने से पेट गैस, कब्ज एवं बदहजमी दूर हो जाती है । भूख खुलकर लगती है, बड़ी आत की सफाई हो जाती है तथा पाचन क्रिया बिल्कुल सही हो जाती है । यदि किसी को पेट की समस्याएं रहती हो तो उन्हें अभयारिष्ट को टॉनिक के रूप में जरूर इस्तेमाल करना चाहिए ।

कब्ज में फायदेमंद अभयारिष्ट सिरप Abhayarishta Syrup benefits in constipation in hindi

कब्ज आज के समय में एक आम समस्या हो गई है । कब्ज का मुख्य कारण अनियमित खानपान एवं रहन सहन होता है । बाजार के फास्ट फूड खाना, तली भुनी चीजों का ज्यादा सेवन करना, रात को देर देर तक जागना, सुबह को देर से सोकर उठना, पानी कम पीना, व्यायाम ना करना यह सभी कारण कब्ज का कारण बनते हैं ।

ऐसी स्थिति में अभयारिष्ट का सेवन करने से बहुत ज्यादा लाभ मिलता है । कब्ज होने की स्थिति में अच्छी क्वालिटी का त्रिफला चूर्ण या पंचसकार चूर्ण का सेवन भी किया जा सकता है । लेकिन इनका सेवन केवल तब करना चाहिए जब बहुत ज्यादा कब्ज हो तथा 2 या 3 दिन से मल त्याग ना किया गया हो ।

लेकिन अभयारिष्ट को एक टॉनिक के रूप में लगातार सेवन किया जा सकता है । इसका सेवन करने से बड़ी आत की सफाई होती है । बड़ी आत में रुका हुआ मल शरीर से बाहर निकलता है तथा कब्ज बिल्कुल दूर हो जाती है ।

बवासीर में लाभकारी अभयारिष्ट सिरप Abhayarishta benefits in Piles  (fissure) in hindi

बवासीर का सबसे प्रमुख कारण कब्ज होती है । यदि कब्ज का सही समय पर उपचार न किया जाए तो कब्ज ही आगे जाकर बवासीर को जन्म देती है । बवासीर में गुदा में एवं गुदा के आसपास मस्से हो जाते हैं तथा मल त्याग करते समय बहुत ज्यादा दर्द होता है ।

ऐसी स्थिति में अभयारिष्ट का सेवन करने से लाभ मिलता है । अभयारिष्ट जहां एक और कब्ज को दूर करती है वहीं दूसरी ओर बवासीर में भी लाभ पहुंचाती है । अभयारिष्ट में ऐसी जड़ी बूटियां प्रयोग की जाती हैं जो बवासीर के दर्द को भी दूर करने में मददगार होती हैं ।

यदि बवासीर की समस्या बहुत ज्यादा बढ़ गई हो तो शुरुआत में अर्शकुठार रस, अर्शोघ्नी वटी एवं बोल बद्ध रस का सेवन किया जा सकता है, साथ ही हमदर्द कंपनी का हम्दोरॉइड मलहम भी इस्तेमाल करने से फायदा मिलता है । बवासीर की बीमारी में रोगी को पानी खूब पीना चाहिए एवं बाजार की तली भुनी चीजों का परहेज करना चाहिए ।

आंतों के लिए लाभकारी अभयारिष्ट सिरप Abhayarishta Syrup benefits for intestine in hindi

जैसा हमने आपको ऊपर बताया अभयारिष्ट का सेवन करने से आंतों को नई ऊर्जा एवं बल मिलता है । इस दवा का सेवन करने से आंतों में जमा हुआ वर्षों पुराना मल कट कट कर शरीर से बाहर निकल जाता है एवं आते बिल्कुल साफ एवं निरोगी हो जाती हैं । जिस कारण शरीर की अनेकों बीमारियां अपने आप ठीक हो जाती हैं ।

कृमि रोग में लाभकारी अभयारिष्ट सिरप Abhayarishta Syrup benefits for stomach worms in hindi

अभयारिष्ट का सेवन करने से पेट एवं मलाश्य के कृमि अर्थात कीड़े नष्ट हो जाते हैं । अभयारिष्ट में वायविदंग घटक द्रव्य होता है जो कृमि नाशक होता है । इसलिए यदि पेट में कीड़े होने की संभावना हो तथा खाया पिया ना लगता हो तो अभयारिष्ट का सेवन करने से पेट के कीड़े मर जाते हैं जिससे व्यक्ति को खाया पिया लगता है तथा शरीर हष्ट पुष्ट एवं निरोगी हो जाता है ।

अभयारिष्ट सिरप की मात्रा एवं सेवन विधि Dosage and Directions

औषधीय मात्रा (Dosage)

बच्चे 2.5 से 10 मिलीलीटर
वयस्क 10 से 30 मिलीलीटर

सेवन विधि (Directions)

अभयारिष्ट को भोजन ग्रहण करने के पश्चात जल की सामान मात्रा के साथ लें।

अभयारिष्ट लेने का उचित समय (कब लें?) भोजन ग्रहण करने के पश्चात
दिन में कितनी बार लें? 2 बार – सुबह और शाम
अनुपान (किस के साथ लें?) सामान मात्रा में गुनगुना पानी मिलकर लें
उपचार की अवधि (कितने समय तक लें) कब्ज में 1 से 2 सप्ताह, अन्य रोगों में 12 सप्ताह तक प्रयोग करना चाहिए।

अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें ।

अभयारिष्ट सिरप के नुकसान एवं सावधानियां Abhayarishta Syrup Side Effects and Precautions in hindi

  • सामान्यतः अभयारिष्ट का कोई नुकसान नहीं है ।
  • यह एक सुरक्षित एवं हर्बल टॉनिक है ।
  • लेकिन फिर भी इस टॉनिक को लेने से पहले आप अपने डॉक्टर से संपर्क अवश्य करें ।
  • इस टॉनिक को अधिक मात्रा में लेने पर सिर दर्द, पेट दर्द, चक्कर आना एवं दस्त जैसी समस्याएं हो सकती हैं ।
  • गर्भवती महिलाओं को इस दवा का सेवन बिलकुल भी नहीं करना चाहिए, इससे गर्भपात की संभावना हो जाती है ।
  • क्योंकि इसमें गुड प्रयोग किया जाता है इसलिए डायबिटीज के रोगियों को इस दवा का सेवन डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही करना चाहिए ।

दोस्तों, यदि आपके कुछ सुझाव हो तो हमें कमेन्ट के माध्यम से जरुर बताये, धन्वायाद ।


बैद्यनाथ अभयारिष्ट सिरप को अभी आर्डर करने के लिए इस लिंक पर जाए और दवा को घर बेठे बेठे मंगाए ।
Product Link: Baidyanath Abhayarist Tonic 450 ml

10 thoughts on “अभयारिष्ट सिरप के गुण फायदे उपयोग एवं नुक्सान Abhayarishta Syrup uses and benefits in hindi

  1. Alokkumar

    सर हमारे पेट मे गैस बहुत ज्यादा बन रही है और पेट की गैस सिर पर चली जाती है इससे मे सिर मे 24 घंटे सिर मे दर्द रहता है और सीने मे दर्द रहता है मै रात को सही से सो नही पाते हैं तो क्या हम को ये सीरफ लेना चाहिए या नहीं सर बताये जरूर हम 4-5 महीने बहुत परेशान हैं बताये

    Reply
    1. admin Post author

      जी हाँ आप अभ्यारिष्ट सिरप का प्रयोग कर सकते हैं । यदि आपको पेट गैस के कारण सर दर्द होता है तो आप रात को सोते समय पंचसकार चूर्ण को गर्म पानी से खाना खाने के बाद जरुर लें । इससे बहुत अच्छा लाभ मिलेगा । रात को 1 चम्मच त्रिफला पाउडर 1 कप पानी में भिगो कर रख दें और सुबह उठकर खाली पेट इस पानी को छान कर पी जाये । इससे गैस की समस्या बिलकुल दूर हो जाएगी ।

      यदि फिर भी आराम न मिले तो आप हमारी फार्मेसी से इस रोग की दवा माँगा सकते हैं ।

      Whats App No : +91 7409224797

      Reply
  2. sonu

    mujhe kidney stone hai kya main iska use kr sakta hu kabaj bhi hai .kahi isskey use se kidney stone to nahi baed jaeiga .

    Reply
    1. admin Post author

      अभ्यारिष्ट का किडनी स्टोन से कोई सम्बन्ध नहीं है | आप इसे निःसंकोच स्तेमाल कर सकते हैं |
      यदि आप किडनी स्टोन की दवा मंगाना चाहेंगे तो हमारी फार्मेसी से मात्र 550/- माशिक शुल्क पर माँगा सकते हैं | 3 महीने में ही पथरी निकल जाएगी |
      गारंटी की दवा है |
      Whats App: +91 7409224797

      Reply
  3. Abhainanadan Singh

    मुझे बहुत दिनों से कब्ज की शिकायत थी एक महीने अभया रिष्ट पिया कब्ज ठीक हो गया है क्या अब बंद कर दे या बराबर पीते रहे

    Reply
  4. जितेन्द्र कुमार

    सर मेरे मुंह मे बार बार छाले होते ह ओर कब्ज रहती ह ओर आम की शिकायत रहती क्या करूँ कुछ बताये plz पेटभी खराब रहता ह हर रोज अंग्रेजी दवाई खानी पड़ती ह कोई परमानेंट सौलशन बताये plz

    Reply
  5. जितेन्द्र कुमार

    सर मेरे मुंह म बार बार छाले होते ह पेट खराब रहता ह ओर आम की शिकायत रहती ह कब्ज भी रहती क्या करूँ ताकि इस परेशानी से बिल्कुल ठीक हो जाओ

    Reply
  6. Vinay Kumar

    Sir ji mai karib 2 sal se jyada ho gay gais acidety se paresan hu pet saf nhi hota khana khane ke bad pet dono taraf tait ho jata hai kya mai iska sevan kar sakta hu

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *