हिमालय गोक्षुरा टेबलेट्स एवं कैप्सूल के फायदे नुक्सान प्राइस और साइड इफ़ेक्ट

By | October 20, 2020

हिमालय गोक्षुरा टेबलेट्स एवं कैप्सूल क्या है? What is Himalaya Gokshuru in Hindi

हिमालय गोक्षुरा हिमालय ड्रग कंपनी के द्वारा बनाई जाने वाली एक आयुर्वेदिक होती है जो पुरुषों के यौन रोगों में मुख्य ओषधि के रूप में प्रयोग की जाती है । हिमालय गोक्षुरा को गोखरू के प्योर हर्बल एक्सट्रैक्ट (Pure Herbal Extract) से बनाया जाता है ।

  • निर्माता / ब्रांड: हिमालया ड्रग कंपनी
  • उपलब्धता: यह ऑनलाइन और दुकानों में उपलब्ध है।
  • दवाई का प्रकार: हर्बल
  • मुख्य उपयोग: इरेक्टाइल डिसफंक्शन
  • मुख्य गुण: मूत्रल, वाजीकारक, वृष्य
  • मूल्य MRP: Himalaya Herbals Gokshura – 60 Capsules @ Rs.150.00 (दवा के दाम बदल सकते हैं)

हिमालय गोक्षुरा का प्रमुख घटक द्रव्य गोखरू जड़ी बूटी होती है । गोखरू एक वाजीकारक, शक्तिवर्धक, बलवर्धक, वीर्यवर्धक रसायन है । गोखरू को पुरुषों के प्रमेह रोग एवं मूत्र संबंधी रोगों में प्रयोग किया जाता है । गोखरू शरीर में वात, पित्त एवं कफ तीनों दोषों को ही दूर करने में मददगार होता है ।

हिमालय गोक्षुरा के घटक द्रव्य

हिमालय गोक्षुरा को गोखरू के फल के एक्सपेक्ट से बनाया जाता है । हिमालय गोक्षुरा कि प्रत्येक टेबलेट में गोक्षुरा फल का एक्सट्रेक्ट 250 मिलीग्राम की मात्रा में होता है ।

गोखरू दो प्रकार का होता है, छोटा गोखरू एवं बड़ा गोखरू । हिमालय गोक्षुरा में छोटे गोखरू का प्रयोग किया जाता है, क्योंकि इसमें औषधीय गुण बड़े गोखरू की तुलना में ज्यादा होते हैं । छोटे गोखरू का वैज्ञानिक नाम ट्राईब्यूलस टेरेस्ट्रिस है ।

इसके फल कांटेदार होते हैं । यह फल गाय के खुरो में फंस जाते हैं इसीलिए इसे गोखरू कहा जाता है । गोखरू के पत्ते देखने में बिल्कुल चने के पत्ते के समान होते हैं तथा इस पर पीले रंग के फूल भी आते हैं ।

गोखरू का सेवन करने से पुरुषों की विभिन्न समस्याओं में बहुत अच्छा लाभ होता है । इसका सेवन करने से टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ता है, पुरुषों में कामेच्छा बढ़ती है, लिंग संस्थान में रक्त का प्रवाह बढ़ता है, जिससे तनाव में कमी अर्थात इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की समस्या में बहुत अच्छा लाभ मिलता है, मांसपेशियां मजबूत होती हैं, वीर्य की वृद्धि होती है तथा शरीर को ताकत मिलती है ।

यदि हम गोखरू की तासीर की बात करें तो यह शीतल होती है तथा मूत्र संक्रमण को दूर करती है । यह मूत्रशोधक, मूत्रवर्धक एवं अन्य समस्याओं को को दूर करने में मदद करती है ।

गोखरू पथरी एवं पुरुषों के प्रमेह रोग की एक शक्तिशाली जड़ी बूटी है । प्रमेह रोग के अलावा गोखरू का सेवन करने से श्वसन तंत्र का संक्रमण, वायु दोष के कारण पैदा होने वाले रोग, हृदय रोग एवं अन्य प्रजनन तंत्र से संबंधित रोगों में लाभ मिलता है ।

गोखरू के आयुर्वेदिक गुण और कर्म

  • रस (taste on tongue): मधुर
  • गुण (Pharmacological Action): गुरु, स्निग्ध
  • वीर्य (Potency): शीत
  • विपाक (transformed state after digestion): मधुर

हिमालया गोक्षुरा के प्रभाव

  1. मूत्रल : द्रव्य जो मूत्र ज्यादा लाये।
  2. मूत्रकृच्छघ्न: द्रव्य जो मूत्रकृच्छ strangury को दूर करे।
  3. शीतल: स्तंभक, ठंडा, सुखप्रद है, और प्यास, मूर्छा, पसीना आदि को दूर करता है।
  4. वातहर: द्रव्य जो वातदोष निवारक हो।
  5. शुक्रकर: द्रव्य जो शुक्र का पोषण करे।
  6. बाजीकरण: द्रव्य जो रति शक्ति में वृद्धि करे।
  7. वृष्य: द्रव्य जो बलकारक, वाजीकारक, वीर्य वर्धक हो।
  8. अश्मरीघ्न: द्रव्य जो पथरी नष्ट करे।
  9. बल्य: द्रव्य जो बल दे।
  10. रक्तशोधन: द्रव्य जो खून साफ़ करे।
  11. शुक्रशोधन: द्रव्य जो शुक्र क शोधन करे।
  12. बस्तीशोधन: द्रव्य जो मूत्रल अंगों को साफ़ करे।
  13. वातहर: द्रव्य जो वायु दोष दूर करे।

हिमालया गोक्षुरा के लाभ

  1. यह शरीर को ठंडक देता है।
  2. यह मूत्रल है।
  3. इसके सेवन से पेशाब सम्बन्धी रोगों में लाभ होता है।
  4. यह टेस्टोस्टेरोन के लेवल को बढ़ाता है।
  5. यह प्रजनन अंगों के सही काम करने में मदद करता है।
  6. यह मांसपेशियों के विकास में मदद करता है।
  7. यह स्टैमिनाएनर्जी को बढ़ाता है।
  8. इसके सेवन से सेक्सुल प्रदर्शन में सुधार होता है।
  9. यह वाजीकारक है और कामेच्छा को बढ़ाता है।
  10. यह शरीर को मज़बूत बनाता है।

हिमालया गोक्षुरा के चिकित्सीय उपयोग

  1. स्तम्भन दोष ED, performance problem
  2. कम एनर्जी, कम कामेच्छा Low energy, vigour
  3. पेशाब रोग Urinary tract infection UTI
  4. वीर्य दोष Semen disorders (too few sperms / oligospermia or no sperms azoospermia or defects in sperm quality)

हिमालय गोक्षुरा के फायदे

हिमालय गोक्षुरा को निम्न समस्याओं में सफलतापूर्वक प्रयोग किया जाता है ।

पथरी रोग में लाभदायक हिमालय गोक्षुरा

गोखरू में पथरी को नष्ट करने के गुण मौजूद होते हैं, यही कारण है कि गोखरू से बनी हुई दवाइयां पथरी दूर करने में लाभदायक होती हैं । इसका एक उदाहरण गोक्षुरादि गूगल है । गोक्षुरादि गुग्गुल को पथरी रोग में सफलतापूर्वक प्रयोग किया जाता है । हिमालय गोक्षुरा पथरी के लिए बहुत ही अच्छी एवं लाभदायक आयुर्वेदिक दवा है । इस औषधि का नियमित रूप से सेवन करने पर गुर्दे की पथरी चुरा होकर निकल जाती है ।

मूत्र संक्रमण में लाभकारी हिमालय गोक्षुरा

हिमालय गोक्षुरा का सेवन करने से मूत्र संस्थान से संबंधित संक्रमण जैसे बार-बार पेशाब आना, पेशाब का रुक रुक कर आना, पेशाब में जलन होना जैसी समस्याओं में बहुत अच्छा लाभ मिलता है ।

जिन लोगों को पेशाब करते समय या पेशाब करने के बाद दर्द महसूस होता है इस स्थिति में भी यह भी लाभदायक होती है । कुछ लोगों को प्रोस्टेट ग्रंथि से संबंधित समस्या होती हैं, जिस कारण उन्हें ऑपरेशन कराने की नौबत आ जाती है । इस औषधि का सेवन करने से प्रोस्टेट ग्रंथि से संबंधित समस्याओं में काफी आराम मिलता है एवं ऑपरेशन कराने की जरूरत नहीं पड़ती है ।

योन शक्ति बढ़ाने में लाभदायक हिमालय गोक्षुरा

हिमालय गोक्षुरा पुरुषों की यौन शक्ति को बढ़ाने में मददगार होता है । गोखरू में पुरुषों की यौन समस्याएं जैसे शीघ्रपतन, वीर्य का पतलापन जैसी समस्याओं को दूर करने के गुण मौजूद होते हैं ।

इरेक्टाइल डिस्फंक्शन एवं नपुंसकता में लाभकारी हिमालय गोक्षुरा

हिमालय गोक्षुरा का सेवन करने से लिंग के नाड़ी संस्थान में रक्त का प्रवाह बढ़ जाता है, जिस कारण पुरुषों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन अर्थात वीर्य में तनाव का ना आना एवं नपुंसकता जैसे रोगों में बहुत अच्छा लाभ मिलता है ।

इरेक्टाइल डिस्फंक्शन एवं नपुंसकता की स्थिति में हिमालय हिमकोलिन क्रीम या हमदर्द डायनामोल का सेवन करने से काफी अच्छा मिलता है । इस क्रीम या तेल को लिंग पर मसाज किया जाता है ।

सुजाक (गनोरिया) में लाभदायक हिमालय गोक्षुरा

हिमालय गोक्षुरा का निरंतर सेवन करने से पुरुषों के भयंकर रोग सुजाक़ अर्थात गनोरिया में बहुत अच्छा लाभ मिलता है । किसी योग्य एवं अनुभवी चिकित्सक की देखरेख में इस औषधि का सेवन किया जा सकता है ।

हिमालया गोक्षुरा प्रयोग विधि और मात्रा 

  • इस दवा की 1-2 गोली, दिन में दो बार, सुबह और शाम लें।
  • इसे पानी के साथ लें।
  • इसे भोजन करने के बाद लें।
  • या डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में लें।

हिमालय गोक्षुरा के साइड इफेक्ट

निर्धारित मात्रा में एवं चिकित्सक के परामर्श अनुसार सेवन करने पर इस औषधि का किसी प्रकार का कोई दुष्प्रभाव या साइड इफेक्ट नहीं देखा गया है, यह एक सुरक्षित ओषधि है ।

हिमालय गोक्षुरा प्रयोग करते समय सावधानियां

जल्दी लाभ प्राप्त करने के लिए इस औषधि की अधिक मात्रा का सेवन ना करें । इस दवा को बच्चों की पहुंच से दूर रखना चाहिए । इस औषधि का सेवन करने से पेशाब ज्यादा आ सकता है, इसलिए इस औषधि का सेवन डॉक्टर की सलाह के बिना ना करें । इस दवाई का सेवन करते समय यदि कोई भी परेशानी महसूस हो तो दवा का सेवन तुरंत बंद कर दें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *